No Image

स्पांसरमय मैं सब जग जानी

October 9, 2010 OmPrakash Singh 1

– आलोक पुराणिक ई सीन सन् 2508 मतलब कि करीब पांच सौ बरीस बाद के ह. स्पांसरमय सब जग जानी, करहु प्रणाम….. – के वचनोच्चार […]

Advertisements