“श्रीरामकथा” भोजपुरी में सामाजिक परिवर्तन के एगो प्रबंध काव्य बा.एकर रचयिता डॉ श्रद्धानंद पांडेय भोजपुरी के मूर्द्धन्य साहित्यकार हईं.एह काव्य में भलहीं रामभक्त कवि के भक्तिभावना केंद्र में बाटे बाकिर एकर पृष्ठभूमि वैचारिक बा.”सर्ग विभाजन से लेके कथानक तक में एह कृति में कवि परिवर्तन के पक्षधर बा आ अपनापूरा पढ़ीं…

Advertisements

“श्रीरामकथा” भोजपुरी में सामाजिक परिवर्तन के एगो प्रबंध काव्य बा.एकर रचयिता डॉ श्रद्धानंद पांडेय भोजपुरी के मूर्द्धन्य साहित्यकार हईं.एह काव्य में भलहीं रामभक्त कवि के भक्तिभावना केंद्र में बाटे बाकिर एकर पृष्ठभूमि वैचारिक बा.”सर्ग विभाजन से लेके कथानक तक में एह कृति में कवि परिवर्तन के पक्षधर बा आ अपनापूरा पढ़ीं…