विश्व भोजपुरी सम्मेलन के बलिया इकाई अउर पाती सांस्कृतिक मंच के एगो बड़हन आयोजन पिछला अतवारा का दिने बलिया के टाउन हाल बापू भवन में भइल. एह आयोजन के पहिला सत्र में पाती संपादक डा॰ अशोक द्विवेदी, प्रो॰ अवधेश प्रधान आ प्रो॰ सदानन्द शाही का हाथै एह साल के “पातीपूरा पढ़ीं…

Advertisements

– ओमप्रकाश अमृतांशु स्वतंत्रता दिवस के अवसर प दिल्ली सरकार का ओर से १॰ अगस्त का दिने भोजपुरी-मैथिली कवि सम्मेलन के आयोजन होखे जा रहल बा. कार्यक्रम ‘प्यारे लाल भवन, बहादुर शाह जफर मार्ग, आई. टी. ओ. नई दिल्ली’ में रखल गइल बा. एह मौका प मैथिली-भोजपुरी अकादमी,दिल्ली के उपाध्यक्षपूरा पढ़ीं…

“जनभाषा कबहियो शासन के भाषा ना होले. राजसत्ता कबहियो जनता के भाषा के राजभाषा के दरजा ना देव. फेर भोजपुरी त लोकभाषा हिय, संवेदना आ प्रतिरोध के जनभाषा. ऊ सरकार के मुँह ना जोहे. अगर संविधान के अठवीं अनुसूची में एकरा जगहा नइखे मिलत त एकर मतलब ई ना किपूरा पढ़ीं…

दिल्ली में ९ अप्रेल से शुरु दु दिन के भोजपुरी विश्व सम्मेलन के उद्घाटन कइला का बाद लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार अपना संबोधन में कहली कि, “बहुत देर हो चुकल अब भोजपुरी के ओकर हक मिल जाये के चाहीं.” मुख्य अतिथि शत्रुघ्न सिन्हा के कहना रहे कि संसद के अगिलापूरा पढ़ीं…