अण्णा के मौन व्रत

by | Nov 7, 2011

– जयंती पांडेय

अण्णा मौन व्रत ले लिहले बाड़े. एक तरह से दमी साध ले ले बाड़े. काहे कि उन कर संघतिया लोग अलटाय बलाय बोलऽता लोग ओह से कहीं ऊ ना फंस जास. ना बोलिहें ना कौनो बिबाद होई. ई सब देखि के सुनि के बेचैन रामचेला बाबा लस्टमानंद से कहले “बाबा ई सब का होऽता?”
बाबा कहले, “ई गीता के नया ज्ञान के अवसर हऽ. भ्रष्टाचार मेटावे के महाभारत में दुनू इयोर से मोर्चा तैयार बा. दुनूं इयोर के लोग के देखि के बुझाता कि एक इयोर नगाड़ा बाजऽता तऽ दोसरका इयोर टिरी री झाल. आ युद्ध स्थल पर अजरुन नाहिन किंकर्त्तव्यविमूढ़ बाबा हजारे. जनता हरान. काहे कि ई पूरा युद्ध ओही के नांव ले के हो रहल बा. चारू इयोर से आरोप प्रत्यारोप के बंड़ेरा उठल बा आ अकास ढांक लेले बा. दूनूं तरफ नर नाहर लोग बांहि चढ़वले तैयार बा. जनता बेचारी का करे. अइसन हालत में अपना हाथ में माइक थमले रणभूमि में ठाड़ एगो मीडियाकर्मी से प्रश्न करऽता – हे समाचार प्रदाता, हमार मन आज बहुत व्यथित बा. आप ज्ञानीलोगन में श्रेष्ठ हईं. ताजा स्थिति से भलीभांति अवगत रहीले. कृपा कऽ के हमरा बताईं कि सदाचारी लोगन के ई व्यूह आ भ्रष्टाचरिन के भारी भरकम फौज के परम पराक्रमी और महारथी तथा अनेक प्रकार के हथियार से सज्जित निर्लज्ज वाक् युद्ध में निपुण वीरन में आज जवन संग्राम हो रहल बा ओहमें केकर जय होई? के पराजित होई आ हमनी के का होई. तब आम जन के ई आर्त वचन के सुनके ऊ मीडियाकर्मी अइसन बचन कहलस, हे जनता जनार्दन ई सदाचारी आ भ्रष्टाचारी के कार्यकलाप देखि के कबहुओं बिचलित मत होखिह. दूनो के सम्बंध दूध आ पानी के होला. जे सदाचारी बा ऊ भ्रष्टाचारी भी बा आ जे भ्रष्टाचारी बा ऊहो सदाचारी होला. ई समझे के खातिर तहरा ई समझे के होखी कि आज जे बहू बा काल्हु सास होई आ आज जे सास हऽ ऊ काल्हु बहू रहे. हे भाई, जैसे आत्मा आ परमात्मा अपना मूल स्वभाव में एके होला तबो फरका-फरका लऊकेला ई भ्रष्टाचार आ सदाचार के भी समझऽ. द्वैत आ अद्वैत के दर्शन के गुत्थी के समान इहो एक दोसरा से गुत्थमगुत्था बा. हे प्रिय भाई, ई मनुष्य के जीवन भोग के निमित्त बनल बा. इहे ज्ञान से भ्रष्टाचारी लोगन के अंत:प्रेरणा आ अवसर प्राप्त होला . सदाचारी लोग अइसन अवसर के पेंड़ा जोहेला. जब सदाचारी के ई दिव्य ज्ञान की प्राप्ति हो जाला, तऽ उहो भ्रष्टाचरण में शुरू कऽ देला . एही से तूं सबलोग हमार बाति के ध्यानपूर्वक श्रवण करऽ. तत्पश्चात एह पर शांत मन से मनन करऽ. सब कुछ स्वत: स्पष्ट हो जाई. तब ऊ मीडियाकर्मी के एह भांति कहल वचन के सुन के आम जन के बोलती लगभग बंद हो गइल आंखि आधा खुल गइल. ऊ थपरी पार के हंसे लागल .


जयंती पांडेय दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास में एम.ए. हईं आ कोलकाता, पटना, रांची, भुवनेश्वर से प्रकाशित सन्मार्ग अखबार में भोजपुरी व्यंग्य स्तंभ “लस्टम पस्टम” के नियमित लेखिका हईं. एकरा अलावे कई गो दोसरो पत्र-पत्रिकायन में हिंदी भा अंग्रेजी में आलेख प्रकाशित होत रहेला. बिहार के सिवान जिला के खुदरा गांव के बहू जयंती आजुकाल्हु कोलकाता में रहीलें.

Loading

0 Comments

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up