आइल पतोहिया भारी रे

by | Jan 6, 2011 | 11 comments

– ओ.पी. अमृतांशु

पर घर के आसरा कइली मतारी, आइल पतोहिया भारी रे.
रोएली लोरवा ढारी मतारी, रोएली लोरवा ढारी रे.

नव महीना दरदिया सहली ,बबुआ के जनमवली 
देवता-पितर पूजली, शीतला माई के गोद भरवली
नजर-गुजर ना लागो, केतना मरीचा दिहली जारी रे,
रोएली लोरवा ढारी मतारी, रोएली लोरवा ढारी रे.

छ्छ्ने छुधवा माई के, पतोहिया अफरे खाई के,
दुधे-मलाई में डूबल बा, नकिया  अनका-जाई के.
टुकुर -टुकुर ताकेला अँखिया, कइसन बा लचारी रे
रोएली लोरवा ढारी मतारी, रोएली लोरवा ढारी रे.

रोपनी-सोहनी कइली, बबुआ के खूब पढ़वली,
ममता के गोदिया में, एगो सुन्दर फूल खिलवली.
मुरुझाइल फुलवरिया, फुलवा लोढ़लस बे-विचारी रे.
रोएली लोरवा ढारी मतारी, रोएली लोरवा ढारी रे.

कलपत जियरा, हहरत हियरा, डहकत छने-छने रोंवा
छछनत हाय  परनवा बाटे, कइली कवन कसूरवा.
हाय रे रामजी,  हद के लीला तहरो बाटे न्यारी रे.  
रोएली लोरवा ढारी मतारी, रोएली लोरवा ढारी रे.

Loading

11 Comments

  1. kiran Pandit

    जिवंत चित्रण।

  2. DINESH MAURYA

    Bahut achcha lagal aapke rachana parhke.Jme gaunke her dukhi maai ke dard safa chittaran kailba.

  3. Chitsa Mehta

    समाजिक दृष्टि से आपकी गीत ‘ आइल पतोहिया भारी रे’ काफी प्रभाव पूर्ण है .माँ की ममता की दर्द का चित्रण अच्छा लगा . बहुत कम साहित्यकार होते है जो लिखने के साथ -साथ पेंटिंग्स भी करते हैं .आपने अपने पेंटिंग्स द्वारा अपने रचना का भाव साफ -साफ दिखा दिया .

    धन्यवाद .

  4. Arti Makhija

    Very Emotional lines OPG but ending on a sad note…Very expressive picture

  5. neha

    Very touched poem and painting is purely shows the feel of poem… owesome..

  6. parveen singh

    bahut atchcha opg

  7. SAHIL

    Very Very Lovely Song
    Good O.P.

  8. Ranjit Kairos

    बहुत अच्छा लागल.

    माई के ममता के चित्रण .

    धन्यवाद !

    रंजित कैरोस

  9. OP_Singh

    मुकेश जी,

    रउरा अँजोर दुनिया से जुड़ल चाहत बानी जान के खुशी भइल. रजिस्टर कइला का बाद वर्डप्रेस से जवन पासवर्ड मिलेला तवना के रउरा अगिला बेर लागिन कर के बदल सकीलें. बाकिर ओकरो के आठ अक्षर से कम के मत राखेम. कोशिश रहे के चाहीं कि पासवर्ड आसान होखे, ओहमें कैपिटल आ लोअर केस के अक्षर, अंक, आ !$%^*()_+=- में से कुछ चिह्न जरुर रहे.

    आशा बा कि रउरा परेशानी ना होखी.

    राउर
    संपादक, अँजोरिया

  10. Mukesh Yadav Said.....

    @ Editor of Anjoria.com

    संपादक जी ,राऊर नया प्रयाश अंजोर दूनिया निमन बा ,बाकी रजिस्टर होखला के सुविधा त खाली कम्प्यूटरे से ठिक बा ,काहेँ से कि कई गो मोबाइल ब्राऊजर काँपी पेस्ट के शुविधा ना देलनस ,हमरो इच्छा रहे कि अँजोर दूनिया से जुङला क बाकी वर्डप्रेस के ऊ लमहर पासर्वड लिखला मे गलती हो जाला ।

  11. Mukesh Yadav Said.....

    का बात बा ,ई त बङा सुन्दर रचना बा ।

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up