इंजिनियरिंग प्रवेश परीक्षा प्रणाली में बदलाव साल २०१३ से

by | Feb 20, 2012 | 0 comments

बरिसन से चलत आ रहल इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा प्रणाली में अगिला साल से बदलाव करे के फैसला केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्रालय मंजूर कर लिहलसि. एह नया प्रणाली के लागू हो गइला का बाद अनेक तरह के प्रवेश परीक्षा ना होखी आ सगरी देश खातिर एकही प्रवेश परीक्षा करावल जाई. बतावल जात बा कि एहसे परीक्षार्थियन के सुविधा होखी आ उनुका एकही इम्तिहान देबे के पड़ी.

एह नया इम्तिहान के नामो बदल दिहल गइल बा. अब एकरा के आईसीट (Indian Science Engineering Eligibility Test, ISEET) कहल जाई. एकर परीक्षा दू खण्ड में लिहल जाई. दुनु खण्ड तीन तीन घंटा के होखी आ एके दिन करा लिहल जाई. साल २०१३ के प्रवेश परीक्षा मार्च भा अप्रेल २०१३ में होखी.

एहमें पहिला खंड में वस्तुनिष्ठ सवाल पूछल जाई. मकसद रही परीक्षार्थियन के समुझे के, सोचे के आ तार्किक विश्लेषण करे के क्षमता, कम्प्रिहेन्सन, क्रिटिकल थिंकिंग, आ लॉजिकल रिजनिंग, के जानकारी लिहल. अगिला खंड में परीक्षार्थियन के विज्ञान विषयन के जानकारी के जाँचल जाई. एह तरह से परीक्षार्थियन के सही आकलन हो पाई कि ऊ इंजिनियरिंग पढ़े लायक बाड़े कि ना.

हालांकि सगरी प्रक्रिया के सबले विवादास्पद बाति बा बारहवीं के बोर्ड परीक्षा में मिलल अंक के महत्व. कहल गइल बा कि बोर्ड में मिलल अंक के वेटेज चालीस फीसदी से कम ना होखी आ जरूरत पड़ले पर एकरा के सौ फीसदी तक कइल जा सकी. जबकि प्रवेश परीक्षा में मिलल अंक के वेटेज कवनो हालत में साठ फीसदी से अधिका ना होखी.

हर राज्य सरकार भा संस्थान एह बारे में आपन फैसला ले सकेला कि ऊ कवना अंके के कतना महत्व दी. मंत्रालय के कहना बा कि सांख्यिकी प्रक्रिया से देखल जा चुकल बा कि अलग अलग बोर्ड परीक्षा के अंक में कइसे संतुलन बनावल जा सकेला.

पहिले कहल गइल रहे कि कानपुर आईआईटी एह परीक्षा के संचालन करी बाकिर एकर संचाल सीबीएसई करी. हँ, कानपुर आईआईटी के शैक्षणिक समूह एह प्रणाली पर आगे के तौर तरीका जरूर तय करी. अंदाज लगावल जात बा कि पहिला साल के परीक्षा केन्द्र से अनुदानित संस्थाने खातिर होखी.

एह बदलाव का खिलाफ आवाज उठल शूरू हो गइल बा. कुछ लोग के कहना बा कि एह तरीका से प्रवेश मापदण्ड में एकरूपता ना आ पाई आ अलग अलग बोर्ड का चलते असंतुलन के हालात बन सकेला. कुछ खास बोर्ड से परीक्षा पास करे वालन के फायदा हो जाई त कुछ के नुकसान. एह तरीका से आईआईटी के विशिष्ट स्वरूप खतरा में पड़ जाई.

दोसरा तरफ कुछ लोग के कहना बा कि एहसे विद्यार्थी अपना बोर्डो परीक्षा पर पूरा ध्यान दीहें आ तोता रटन्त वाला प्रणाली आ कोचिंग के धंधा करे वालन के चंगुल से विद्यार्थी आजाद हो जइहे.

Loading

0 Comments

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up