डाक विभाग के नांव बदलल जाउ

by | Nov 23, 2012 | 0 comments

– जयंती पांडेय

बाबा लस्टमानंद कलकत्ता अइले. उहां उनकर नाती नोकरी करत रहे. ओकरा बगल में एगो आदमी रहे , बेचारा मजदूर. अपने ओर के. ओकर बाप बाबा के परिचित. बड़ा चिंता में रहे. सुनलस कि बाबा आइल बाड़े त भेंट करे चलि आइल. ओकरा देखते बाबा खिसिया गइले, तोर माई मू गइल पइसा के बिना आ तें एहिजा गुलछरा उड़ावऽतारे. ऊ बेचारा रोए लगलस. बतवलस कि माई के बेमारी में पांच हजार रुपिया भेजले रहनी. माई ऊपर चहुंप गइल लेकिन रुपिया ना पहुंचल. अब ओकरा लेवे खातिर रोज जातानी. एकदम भिखमंगा के हाल हो गइल बा. लेकिन पइसा नइखे मिलत. रोज चक्कर काटऽतानी. जानऽतारऽ बाबा? ऊहां जे बाबू बइठल बा ऊ कहऽता कि ‘बेफालतू जन बोलऽ , ई डिपाट एकदम उत्कृष्ट सेवा खातिर मशहूर बा.’ तहार माई ऊपर चलि गइली त का, डाकपिउन उनकर पता जोहे ऊपर गइल होई, अब अनजान रस्ता बा, ओहिजा जाए आवहू में टैम लागी. जोहहू में टाएम लागी. लेकिन घबरइहऽ जन, एकदम तहरा महतारी के लगे रुपिया चहुंप जरूर जाई.

दोसरा दिने ऊ बाबा लस्टमानंद के ले के डाकघर गइल. ओकरा देखते डाकबाबू लगले चिलाये. चलि अइलऽ. पइसा मांग मांग के हरान क दिहले बाड़ऽ. ऊ बेचारा मजदूर कहलस, बाबू हमार गति त एकदम भिखमंगा के हो गइल बा. डाकबाबू भड़क गइले. कहले, देखत नइखऽ हम तहरो से बड़हन भिखमंगा भ गइल बानी. सुबेरे से सांझ ले घिघिआनी, लोग से दांत चियारेनी कि कुछ द लोगिन. ना त फाइले के नांव पर द. लेकिन केहु नइखे देवे वाला. ऐने सब काउंटर बुक बा. सांझ के सबके पइसा बान्हल बा. अगर ना देहल त खैर नइखे. तहरा जे काम करवाये होखो त पाकिट ढील करऽ. ना त दऊरत रहऽ. अब बाबा से सहाइल ना. कहले, तूं भाई बेईमानी करऽ तारऽ. एह पर डाकबाबू ठठा के हंसले. कहले, ऊ जमाना गइल जब इमानदारी सर्वोत्तम नीति कहात रहे. हमरे एरियर के पइसा फंसल बा. दू हाली के इशोरेंस के पइसा नइखे मिलत. हम का करीं. ऊ लोग उहां से थाना में आइल कि ओहिजा कम्पलेन कइल जाई , लेकिन ओहिजा तैनात दरोगा कहलस कि बेपइसा के कम्पलेन ना लिखी आ कम्पलेन ना होई त जांच कइसे होई? अब बाबा आ मजदूर के आंखि खुल चुकल रहे. ऊ लोग पइसा ना दी. पइसा हार जा. बाबा ओहिजा से गांव लवट के अइले आ एगो अखबार के सम्पादक जी के लिखले कि, जइसे लोग आज काल ‘राम के रामा, आ कृष्ण के कृष्णा आ अशोक के अशोका कहल जाता ओसही डाक विभाग के डाका विभाग कहल जाऊ.’


जयंती पांडेय दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास में एम.ए. हईं आ कोलकाता, पटना, रांची, भुवनेश्वर से प्रकाशित सन्मार्ग अखबार में भोजपुरी व्यंग्य स्तंभ “लस्टम पस्टम” के नियमित लेखिका हईं. एकरा अलावे कई गो दोसरो पत्र-पत्रिकायन में हिंदी भा अंग्रेजी में आलेख प्रकाशित होत रहेला. बिहार के सिवान जिला के खुदरा गांव के बहू जयंती आजुकाल्हु कोलकाता में रहीलें.

Loading

0 Comments

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up