बतकुच्चन – ४३

by | Jan 18, 2012 | 0 comments


महुआ बीनत लछमिनिया के देखनी, हर जोतत महिपाल, टिकठी चढ़ल अमर के देखनी, सबले नीमन ठठपाल ! नाम कई बेर सार्थक ना हो पावे आ नामित आदमी भा संस्था भा चीझु नाम का हिसाब से ना चलि पावे. बाकिर एकर मतलब इहो ना होला कि नाम हमेशा गलते होखेला. कई बेर नाम पूरा सार्थक हो जाला. एगो भोजपुरी कहाउत ह कि “बाप के नाम साग पात बेटा के नाम परोरा” ! ई तब कहाला जब बेटा बाप से कई मामिला में आगा निकल जाला. बाकिर तबहियो “बापे पूत परापत घोड़ा बहुत नहीं त थोड़ा थोड़ा” वाला कहाउत एकदमे गलत ना हो जाव. अइसहीं संस्कृत के तृण के दुनिया में बहुते रूप देखे के मिलेला. दूबो एक तरह के घास ह त बाँसो घासे ह. आ सबले बड़की बात कि मूंजो घासे के एगो प्रजाति हऽ. अब देखीं तृण के तीन गो रूप त अतने में लउक गइल बाकिर हमार मकसद तृण के चरचा करे के कम मूंज के चरचा करे के बेसी बा आजु. मूंज अइसन घास होले जवना के जानवरो ना खासु आ एह चलते ऊ पसरत बढ़त चलि जाला जहाँ मौका मिले. बाकिर मूंज एकदम से बेकारो घास, भा तृण, ना ह. मूंज के कई तरह से इस्तेमाल होला. मूंज के रसरी बनेला, मूंज से पलानि छवाला जवना तरे गरीब गुरबा अपना के सुरक्षित राखेले बरखा पानी से. जेकरा लगे औकात बा से त मूंज से छवला का बाद ओहपर नरिया खपड़ा राखि देला. बाहरो से सुंदर आ भितरो से सुरक्षित, आरामदेह. बाकिर जे लोग मूंज से काम करेला ओकरा के इस्तेमाल करेला, ओह लोग के तनी सावधानो रहे के पड़ेला. मूंज हवे त तृण भा घास बाकिर ओकर कोर किनारी अतना धारदार होला कि तनी मनी गफलत होखते राउर हाथ काट के राख दी. तब पता ना चली कि घासो अतना चोख कइसे हो सकेला बाकिर पूछीं उनुका से जिनकर हाथ मूंज नाम के तृण से कटा गइल होखे. आ उनुकर हालत वइसन हो गइल होखे कि बुझाव ना कि का करीं, काहे कि एह कैच ट्वेंटी टू में “उगिलत आन्हर, निगलत कोढ़ी” के दुविधा बनि जाला. आ तब एगो दोसर भोजपुरी कहाउत याद आ जाला कि “पड़लन राम कुकुर का फेरा खीचि खाँचि ले गइलसि खाला.” हम त आराम से बतकुच्चन करे में लागल बानी बाकिर पूछीं उनुका से जिनका खातिर एगो अउरी कहाउत कहल जाला, “बुझेला चिलम जवना पर चढ़ेले अंगारी.” अब चलत चलत एके गो बात कहब कि हमरा कवनो बाति के राजनीतिक मतलब मत निकाली सभें. बाकिर आगा राउर मरजी !

Loading

0 Comments

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up