बतकुच्चन २२

by | Aug 9, 2011 | 3 comments

हिन्दी में “कल” के जवन मतलब होखे भोजपुरी में त एकर मतलब बिल्कुले अलग होला. कहल जाले कवनो करवट कल नइखे मिलत. अतना बेकल हो गइल बानी एह कलकानी से कि बुझात नइखे कि का करी. कल मतलब कलपूर्जा वाला कल, कल कारखाना वाला कल, आ साथ ही साथ एकर सबले खास मतलब होला चैन भा शान्ति वाला कल. कलकानी मतलब कोलाहल, बेचैन करे वाला शोरगुल, बेकल करे वाली घटना. आ जब कल के बाति निकलल त सोचे लगनी कि कल कतना शब्दन का साथ जुड़ के अलग अलग मतलब वाला शब्द बना देला. जइसे कि जमकल, सहकल, बहकल, गमकल, धीकल, महकल, चहकल वगैरह वगैरह. आ एही शब्दन में से दू गो जोड़ी कुछ अउरी बतकुच्चन करे लायक सामने आ गइल, सहकल आ बहकल, अउर गमकल आ महकल. कुछ लोग सहक के बहकेला त कुछ लोग बहक के सहकेला. आ सहकल के अधिकता से परीकल हो जाला. आ एही पर एगो कहाउत बनल बा कि परीकऽ ए बिलार, कहियो खइबऽ मूसर के मार. एगो अउरी कहाउत ह जम्हुआ के छूवला के डर ना परीकला के डर होला. सहकलो लोग का साथे इहे होला. सहकावे वाला का बहकावा में आके कुछ लोग दोसरा के तंग करे लागेला. विरोध ना भेंटाव त अउरी हिम्मत बढ़े लागेला आ सहकला के आदत अउरी बिगड़े लागेला. एही सहकला के परीकल कहाला. आ जब केहू परीक जाव त एक ना एक दिन मूसर के मार भेंटाहीं के बा. ई त बाति भइल सहकला आ बहकला के जवना में परीकलो के चरचा आ गइल. बाकिर माथा त तब घूम गइल जब गमकल आ महकल का बारे में सोचे लगनी. गमक आ महक गंध त होला बाकिर ऊ सुगंधे होखे ई जरूरी नइखे. बसाइलो चीझु बतु्स महकेला बाकिर ओह महक के गमक ना कहाव. बसिया के बास सुवास ना लागे. जब केहू के गंध नीमन लागेला त कहल जाला कि का हो आजु बड़ा गमकत बाड़ऽ. बाकिर कहीं कुछ बसात होखे त मुँह से बेबस निकल जाला कि का हो का महकत बा ? एह वाक्यन में तनी गमकल आ महकल के जगहा बदलि के देखीं. रहल बाति चहकल के त चहकल सभका नीमन लागेला, चाहे ऊ चिरई के चहकल होखे भा लड़िकन के. अब चलत बानी. ना त धीकल चाय सेराये चाहत बा.

Loading

3 Comments

  1. dadag

    “kal” parte hi “akal” aa gayel bahut hi achha prasang uThauli hai rauaa

  2. राहुल सिंह

    हमको तो कल पढ़ते ही चांपाकल याद आया सबसे पहले. म्‍युनिस्‍पल की जल आपूर्ति के लिए भी कल आ गइल, कल चल गइल, सुनना मजेदार लगता था. मैं सोचता नल को कल क्‍यों कहा जा रहा है और नल तो वहीं का वहीं है, आ जा कहां रहा है. हम छत्‍तीसगढ़ी में भी कहते हैं- बिकल हो गे, कल नइ परत हे. कलकुत हो जात हे.

  3. चंदन कुमार मिश्र

    बाह! पहिला बेर ध्यान दे के पढ़नी आ लागल कि ई त बड़ा बन्हिया चीज बा। बतकुच्चन के सब अंक देखे के पड़ी अब त। हिन्दी में शब्दों का सफर जेंग बा ओइअसहीं एकरो के बनावल जा सकेला। बाद में किताब का रूप में आ सकेला।

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up