बाबा हजारे आ हजार गो बात

by | Aug 25, 2011 | 0 comments

– जयंती पांडेय

जबसे बाबा अण्णा हजारे अनशन के जिद पर खड़ा हो गइले आ देस के लाखन लोग मोमबत्ती ले के एने ओने जमा होखे लागल तबसे दू गो चीज के दिन बहुर गइल. एगो गाँधी टोपी के आ दोसरे मोमबत्ती के. एकरा साथ भ्रष्टाचार आ बेईमानी पर लमहर लमहर भाषण होखे लागल. बाबा लस्टमानंद लमहर साँस खींच के कहले, हो रामचेला ई कुटिल कपटी जुम में अबहियों कतना लोग भेंटाता ई कहे वाला कि, हम आजु ले कवनो भ्रष्टाचार नइखी कइले. नाजायज पइसा के हाथ से छुअल का, हम त ओकरा इयोर तकबो ना करीले. हम एकदम पांकी में कमल नाहिन बानी. लेकिन जब उहे अदमिया के बारे में दोसर लोग लागे ला बखाने कि भाई, कौ दिन से उनुका के जानऽतारऽ. नंबर एक के बेईमान ह, पक्का कामचोर. आफिस में फाईल ओकरा लगे गइला के देर बा कि ओह में अइसन अइसन रोड़ा अँटका दी कि बस. कवनो काम ना होई. ऊ त करबे ना करी दोसरो के करे लायक ना छोड़ी. उहे खिसा ह कि “ना खाएब ना खाए देब, खयके बिगाड़ देब”. मोका नइखे कि चोरइहें त भ्रष्टाचार कहां से करीहें.

कुछ लोग में ई आदत होला कि अपना के एकदम पकहर कही आ दोसरा के बड़का चोत. कुछ लोग त असहुओं होला कि हर बात में किरिया खाला. किरियो अइसन जोरदार ढंग से कि कुछ कहल ना जा सके. कबहुं ताबीज निकाल के भगवान जी के छू के. आ जब खनाद होला त ऊ अइसन झूठा निकलेला कि मत पूछऽ. ऊ लोग दोसरा के महाबोका बुझेला. जान जा रामचेला कि हमार एक जाना परिचित बाड़े, सुरेश जी. एगो बड़हन कंपनी में काम करेले, बड़ा पइसा कमइले. जब भैंटइहे तब आपन बात एहिजे से शुरू करीहें कि हम आजु ले झूठ नइखीं बोलले. अरे भाई, कबहुँओ त बोलले होखबऽ. ना एकदम ना, आखिर बेर कब बोलले बानी हमरा इयाद नइखे. केहू केहू त कहियो देला कि ई इनकर अइसन झूठ ह जेकरा से बात शुरू करेले. फेर आगे बोलत जाले. अब त अतना पाक गइल बाड़े कि सुधरे के कवनो चांस नइखे. हमरा कहे के अर्थ ह कि आजुओ लोग बा जे थोथा आदर्श चिनगम अइसन चबात रहेला. मौका कुमोका ना देखे, बस शुरू हो जाला. कहे लागेला कि आदमी पइसा का पीछे पागल हो गइल बा. आखिर अतना पइसा के ऊ का करी. मुअला का बाद सब छूटि जाई. अइसन लोग पाकिट में ईमानदारी के साबुन ले के चलेला. जब मोका मिलल त सामने वाला के धो के एकदम चकाचक क देला लोग. बुझाला कि ईमानदारी के धर्मगुरू ह लोग. सामने वाला के कही, खूब खा तारऽ, तनी सम्हार के खा. धरइलऽ त ऊ का कहाला, नाक कटि जाई.

कई लोग त मजबूरी में ईमानदार होला. खाये के मोका नइखे त काई कइसे. कुछ लोग डेरापूत होला. एकदम दस पाँच रुपिया में संतोष कर लेला. कुछ लोग के पेट बड़हन होला, ऊ कहेला कि अब के पचीस पचास खातिर ईमान छोड़े जाउ. लेकिन जब लाख दू लाख के बात होला त देखऽ कइसे लार चूअऽता. कुछ लोग डर का मारे भ्रष्टई ना करे ला.

ई दुनिया में भ्रष्टाचार के परिभाषा बदल गइल बा. केहू के काम करवला के बदले जे लिहल जाला ओकरा के कमीशन, चाहे मिठाई, चाहे भेंट सौगात वगैरह कहल जाला. ई भ्रष्टई के श्रेणी में ना आवे. रामचेला जेकरे किओर झाँकऽ उहे भ्रष्ट निकली. ई दुनिया में केहू ईमानदार नइखे. बस ओकर रूप बदल गइल बा.

हो रामचेला ! ई जग ह भ्रष्टाचारी !


जयंती पांडेय दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास में एम.ए. हईं आ कोलकाता, पटना, रांची, भुवनेश्वर से प्रकाशित सन्मार्ग अखबार में भोजपुरी व्यंग्य स्तंभ “लस्टम पस्टम” के नियमित लेखिका हईं. एकरा अलावे कई गो दोसरो पत्र-पत्रिकायन में हिंदी भा अंग्रेजी में आलेख प्रकाशित होत रहेला. बिहार के सिवान जिला के खुदरा गांव के बहू जयंती आजुकाल्हु कोलकाता में रहीलें.

Loading

0 Comments

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up