भइल बा उखमवा

by | Jun 28, 2011 | 8 comments

– ओ.पी. अमृतांशु

टपऽ- टपऽ चुअता पसेनवा
हायॅ राम भइल बा उखमवा !

चैन बा दलानी नाहीं
बाग-फुलवारी,
लेई लुकवारी धावे
पछुआ बेयारि,
उसिनाई गइल बा परानवा
हायॅ राम भइल बा उखमवा !

पोखरा – ईनरवा के
होठवा झूराई गइल,
खेतवा के नन्ही -नन्ही
डिभी झकोराई गइल ,
छछनी के पीहुके पपिहवा  
हायॅ राम भइल बा उखमवा !

गरमी जवानी थाम्हऽ
बरखा ये रानी आवऽ,
जरती भुभुरिया के 
हिकवा मिटानी आवऽ 
छम-छम बारिसऽ अँगनवा
हायॅ नाची मन के मयूरवा.
टपऽ- टपऽ चुअता पसेनवा.

हायॅ राम भइल बा उखमवा !

Loading

8 Comments

  1. kiran

    जीवन से जुडल गीत काफी प्रभावपूर्ण लागत बा .”उसिनाई गइल बा परानवा” में केतना दर्द झलकत बा .
    धन्यवाद !अमृतांशु जी

    किरण

  2. bhola prakash

    उसिनाई गइल बा परानवा
    हायॅ राम भइल बा उखमवा !

    वाह बहुत अच्छा रचना बा .मजा आ गइल.
    भोला प्रकाश

  3. SAHIL

    VERY BEAUTIFUL SUMMER SONG

  4. punam singh

    “उसिनाई गइल बा परानवा
    हायॅ राम भइल बा उखमवा !”
    वाह! केतना दर्द बा राउर कविता में .

    पूनम

  5. ram prakash

    तोहर गर्मी के पुकार भगवान सुन लिहले बाडन.एही से बारहा रानी के भेज दिहले बाडन .
    बहुत सुन्दर गीत बा .
    धन्यवाद !

  6. santosh patel

    amritanshu
    bahut umda rachana …
    ashirvad
    santosh

  7. प्रभाकर पाण्डेय

    पोखरा – ईनरवा के
    होठवा झूराई गइल,
    खेतवा के नन्ही -नन्ही
    डिभी झकोराई गइल ,….

    भाई अमॉतांशु जी…ग्रामीण परिवेश के सजीव वर्णन करत रउआँ ए रचना की माध्यम से पानी (जवने कातिर आजकल..महानगर में हाहाकार मचल रहता) की जगहि पर अमृत पिया रहल बानी। साधुवाद।।

  8. amritanshuom

    नमस्कार सर !
    सबसे पहिले धन्यवाद रचना प्रकाशित करे खातिर .बाकिर एगो निहोरा बा रचना में निचे से दुसरका लाइन “हो, टपऽ- टपऽ चुअता पसेनवा” निकाल दीहीं त बढ़िया रही .
    धन्यवाद !
    राउर
    ओ.पी.अमृतांशु

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up