भाई खातिर बहिन के घरौंदा

by | Nov 2, 2010 | 3 comments

– ओ.पी. अमृतांशु

मोर भईया बसेलें महंगा मनेर,
ले ले अइह हो भईया कुलिया-चुकियावा !
हमरा हीं देशे बहिनी कुलिया महंग भइले,
छोड़ देहूं ए बहिनी कुलिया-चुकियावा !
नाहिं छोडबो हो भईया कुलिया-चुकियावा ,
भरत बानी हो भईया तोहरो बधईया !

जगमग-जगमग रोशनी में लोक-गीत से घर-आँगन गूंज रहल बा. आँगन के एगो कोना में छोटी-मुकी घरौंदा बनल बा. घरौंदा के घेर के बईठल लइकी लोग कुलिया-चुकिया भरत बाड़ी.

ऊ लोग एकरा माध्यम से ईश्वर से अपना भाई के मंगल कामना करत बाड़ी. आखिर घरौंदा का चीज ह, आ जनमानस में एकर काहे एतना महत्ता बा ? घरौंदा यानि कि छोटी-छोटी लईकीन के बनावल छोटी-चुकी घर. खेल-खेल में बनावल ई घरौंदा खाली तेवहार के प्रतीक मात्र न ह. ई त हमार लोक -संस्कृति के यादो ताजा करेला. बदलत माहौल में आज घरौंदा अलग-अलग वेष में बाजार में आ गइल बा. बाकिर ई घरौंदा बाजार के अनुरूप व्यवसायिक लोगन के हाथे बनल बा, जेकरा में लोक -संवेदना के झलक कम बा.

दीपावली के कई दिन पहिलही से घरौंदा बनावे के शुरुआत हो जाला. छोटी-छोटी लईकीन लोग अपना-अपना कल्पना के मूर्तरूप देवे लागेली जा. घरौंदा के स्वरुप कइसन आ केतना सुन्दर बा ई एह बात पे निर्भर करता कि केकर कल्पनाशीलता कइसन बा. घरौंदा बनवला के बाद अलग-अलग रंग से रंगल जाला आ ओह पर तरह- तरह के चित्र उकेरल जाला. हाथी, घोडा, चिरई. त कहीं फूल-पत्ती से घरौंदा सजावल जाला. रंग में मुख्य रूप से गेरू, नील, चूना आ सेम के पतई से बनावल गइल रंग होखेला. दीपावली के रात में घरौंदा के अन्दर आ बाहर रंग-बिरंग के मोमबती आ दीया जरावल जाला. बहिन लोग धान के लावा आ घोड़वा मिठाई से भरल चुक्का आपन भाई के परसादी के रूप में देवेली जा, जेकरा के भाई लोग बड़ा प्यार से स्वीकार करेला.

घरौंदा बनावे आ कुलिया-चुकिया भरे के परंपरा सदियन से पीढ़ी दर पीढ़ी चलल आवऽता. बरिसन से एह परंपरा के निर्वाह कइल जाता. .यदि कलात्मक नजर से देखल जाव त ई सउँसे कला के एगो समहर रूप बा. स्थापत्य- कला, भिति-चित्र, साज-सज्जा वगैरह घरौंदा में भरपूर समाईल बा. घरौंदा आदिम संस्कृति के एगो अइसन उपहार बा जवन आजुओ भारतीय संस्कृति के हिस्सा बनल बा .

Loading

3 Comments

  1. neha

    Very senti true story.
    I am totally touched by ur story.
    Aisi achi achi stories likhte rahiye o.p. sir.
    Good Luck
    Happy Diwali

  2. SAHIL

    awesome**********Happy Dipawali********

  3. Shelly

    Bhaute achcha likhat ho! Mehnat rang laai tohaar!

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up