भोजपुरी के बइठकी गोरखपुर में

by | Apr 29, 2012 | 4 comments

गोरखपुर के भोजपुरी संगम के छब्बीसवीं बइठकी पिछला ८ अप्रेल २०१२ के डा॰ सत्यमवदा शर्मा “सत्यम” के शाहपुर आवास पर भइल. एकरे पहिले पारी में युवा कहानीकार अवधेश शर्मा “सेन” के कहानी “बदलाव” पर बातचीत में कवि , साहित्यकार रूद्रदेव नारायण श्रीवास्तव के आलेख पढ़त डा॰ अभिजीत शुक्ल कहलीं कि कहानीकार आजु के राजनैतिक माहौल से दुखी त बा बाकिर निरास नइखे.

बातचीत के आगे बढ़ावत कवि धर्मेन्द्र त्रिपाठी जी कहलीं कि हिन्दी में जवन काम भारतेन्दुजी कइलीं उहे काम भोजपुरी में होखे के चाहता.

छोट कहानी के बड़ समीक्षा पर विरोध दर्ज करत वरिष्ठ गीतकार राजेश राज जी कहलीं कि बनियान के बाँहि लमहर भइला पर बुसैट से बहरा लटकि के बाउर लागल करेला.

हिन्दी के स्थापित समीक्षक श्रीधर मिश्र जी बतवलें कि आजु कहानी खाली किस्सागोई भर नइखे करत. उहाँ के एह कहानी के कौनों उपन्यास के सारांश जइसन मनलीं.

दुसरी पारी में वरिष्ठ गीतकार ओम धीरज, आचार्य ओम प्रकाश पाण्डेय, आचार्य मुकेश, जगदीश खेतान, त्रिलोकी त्रिपाठी “चंचरीक”. लल्लन पाण्डेय “ट्रेन”, नरसिंह बहादुर चन्द्र, केशव पाठक “सृजन”, अजु शर्मा, मेजबान कवियित्री “सत्यम”, धर्मदेव सिंह “आतुर”, सूर्यदेव पाठक “पराग” के रचना पाठ भइल.

अध्यक्षीय संबोधन में प्रो॰ जनार्दन जी कहलीं कि “भोजपुरी मन के मामिला हवे जवन कहीं न कहीं से बिगड़ल जरूर बा एहसे पहिले भोजपुरी के “मन” बनावे के पड़ी, उहो बुद्धि के तालमेल से”.

बइठकी के कामयाबी पर वरिष्ठ भोजपुरी कथाकार गिरिजा शंकर राय “गिरजेश” जी प्रसन्नता व्यक्त कइलीं. संचालन सत्यनारायण मिश्र “सत्तन” के रहे.


(फोटो में उपर वाली कतार में सूर्यदेव पाठक “पराग”, गिरिजा शंकर राय “गिरजेश”, केशव पाठक “सृजन”, नरसिंह बहादुर चन्द, श्रीधर मिश्र, प्रो॰ जनार्दन, जगदीश खेतान, सत्यनारायण मिश्र “सत्तन” आ निचला कतार में पीठ कइले डा” सत्यमवदा शर्मा “”सत्यम”, संजू शर्मा आ धर्मेन्द्र त्रिपाठी.)


संपर्क :-
भोजपुरी संगम,
66, खरैया पोखरा, बशारतपुर,
गोरखपुर – 273004 ‍
फोन – 7376935234

Loading

4 Comments

  1. OP_Singh

    चंदन जी, अँजोरिया के सक्रिय पाठक होखला खातिर बहुते धन्यवाद.

  2. चंदन कुमार मिश्र

    ओह गलती हो गइल। हम ठीक से ना देखनी हऽ, कहानी के बात खास कहानी पर बाऽ। माफ कइल जाव।

  3. चंदन कुमार मिश्र

    हमार बिरोध दर्ज कइल जाव कि कहानी उपन्यास के सारांस हऽ। उपन्यास गद्य के महाकाब्य कहल जा सकेला जवना में जीवन के एगो ना बहुते पक्छ के बात आवेला बाकिर कहानी के तऽ मानल परिभासा हऽ कि ओमें जीवन के एके गो पक्छ आवेला, कवनो एके गो बात रहेला।

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up