लाख बाधाओं को काटकर डंके के चोट पर ‘मुकद्दर’ ने लिखी अपनी तकदीर

by | Nov 4, 2017 | 0 comments

रिलीज से पहले ही चर्चा में रही बहुत ही खास फ़िल्म को एडवांस बुकिंग के साथ-साथ रिलीज के पहले ही दिन ऐतिहासिक ओपनिंग मिली है। अपनी धुन के मालिक सुलझे हुए फ़िल्म मेकर वसीम एस खान और सुपरस्टार खेसारी लाल यादव की भोजपुरी फिल्म ‘मुकद्दर’ बिहार और झारखण्ड के सिनेमाघरो में भव्य पैमाने पर प्रदर्शित की गई है। फिल्म की बात करें तो ‘मुकद्दर’ अन्‍य रूटीन फिल्‍मों से काफी हटकर नई ताज़गी से भरपूर है। यह भोजपुरी सिनेमा के प्रति लोगों की सोच बदल रही है। अगर फ़िल्म की भाषा को थोड़ी देर के लिए अलग करके देखें तो यह फिल्‍म भी हिंदी की बेहतरीन फिल्‍मों की तरह लगेगी। इस फिल्‍म में तकनीक का बेहतर और वाजिब इस्‍तेमाल किया गया है। जो अभी तक भोजपुरी फिल्‍मों में कम देखने को मिलता था। यह एक म्‍यूजिकल लव स्‍टोरी है। इसमें एक्‍शन भी हैं, ट्विस्‍ट भी हैं, रोमांस भी हैं और दर्शकों को गुदगुदाने में कामयाब है यह फ़िल्म। यह भोजपुरी सिनेमा में पहली बार है, जब कोई स्‍टार अपने ही स्‍टारडम की कहानी को पर्दे पर जिया हो, ये खेसारीलाल यादव की ही कहानी है और इसे उन्‍होंने पूरी सिद्दत के साथ परफॉर्म किया है। हालांकि फिल्‍मों में अक्‍सर स्‍टरडम पाने की स्‍टोरी दिखाई जाती है, लेकिन ‘मुकद्दर’ पोस्‍ट स्‍टारडम की कहानी है। फ़िल्म के दूसरे हीरो शमीम खान एंग्री यंगमैन की अमिट छाप छोड़ रहे हैं। शमीम खान और काजल राघवानी की जोड़ी दर्शकों को खूब पसंद आ रही है। सिनेतारिका शुभी शर्मा की अदा दर्शकों को खूब लुभा रही है।
फिल्म ‘मुकद्दर’ के गाने काफी खूबसूरत हैं और कर्णप्रिय है। इसकी गवाही तो आज लोग भी दे रहे हैं। वहीं यू ट्यूब पर फिल्‍म के रिलीज से पहले ‘मुकद्दर’ के हर एक गाने को दस मिलियन से ज्‍यादा बार देखा गया जा चुका है, जो कि भोजपुरी इंडस्‍ट्री में एक रिकॉर्ड है। इससे साफ पता चलता है कि फिल्‍म के गाने कैसे हैं और अगर गाने इतने सुपरहिट हैं तो फिल्म कितना हिट है आप को पता ही है। फिल्म ‘मुकद्दर’ बिहार के लगभग सभी बॉक्स ऑफिस पर अपना कब्ज़ा जमा चुकी है। बिहार के दर्शक भी फिल्म को बहुत पसंद कर रहें है खास कर इस फिल्म को महिलाओ को बहुत पसंद आ रही है।
शालीमार प्रोडक्शन लिमिटेड एव एस.के.फिल्म्स इंटरटेनमेंट के बैनर तले बनी फिल्म ‘मुक्कदर’ के निर्माता वसीम एस.खान हैं। लेखक व निर्देशक शेखर शर्मा हैं। संवाद अरविन्द तिवारी का है। संगीतकार मधुकर आनंद हैं तथा गीतकार आज़ाद सिंह, प्यारे लाल यादव, अरविन्द तिवारी हैं। छायांकन प्रमोद पांडेय, नृत्य संजय कोर्व, मारधाड़ कौशल मोजिस तथा संकलन अशफ़ाक मकरानी का है। फिल्म प्रचारक रंजन सिन्हा व संजय भूषण पटियाला हैं तथा प्रोडक्शन पी.आर.ओ. रामचन्द्र यादव हैं। मुख्य भूमिका में खेसारीलाल यादव, काजल राघवानी, शमीम खान, शुभी शर्मा, अयाज खान, बालेश्वर सिंह, प्रकाश जैस, सीपी भट्ट, अनिता सहगल, नागेश मिश्रा, जे. नीलम, अभय राय, हेमंत सम्राट आदि हैं।


(रामचन्द्र यादव)

Loading

0 Comments

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up