होलिका दहन आ फगुआ का दिन खातिर कुछ अनुभूत सात्विक प्रयोग

by | Mar 19, 2011 | 0 comments

– वैभव नाथ शर्मा

फगुआ भा होली वसंत ऋतु में मनावल जाये एगो महत्वपूर्ण भारतीय त्योहार ह. हिंदू पंचांग का अनुसार होली फागुन महीना के पुरनमासी के मनावल जाला. रंग के त्योहार कहल जाये वाला ई पर्व पारंपरिक रूप से दू दिन के पर्व होला. पहिला दिने, माने कि पुरनमासी के पहिले वाला साँझ के सम्मत भा होली जरावल जाले जवना के होलिका दहनो कहल जाला आ जवन बुराई पर अच्छाई के जीत के प्रतीक ह. ओकरा बाद दोसरा दिने धुरड्डी, धुलेंडी, धुरखेल भा धूलिवंदन का साथ होलिका के राख के प्रणाम करिके ओकरे से होली खेलल शुरु कइल जाला. एक दूसरा पर रंग, अबीर-गुलाल डालत उत्साह साथ ई पर्व मनावल जाला. घरे-घरे जा के अपना हित मित नात रिश्तेदार के रंग अबीर लगावल जाला आ होली के बधाई दिहल जाला. अइसन मानल जाला कि होली का दिने लोग आप पुरान कटुता, बैर भाव, तनाव भूला के गले मिल जाला आ फेर से दोस्त बन जाला. होलिका वाली रात तंत्र साधना भा कवनो तरह के साधना खातिर बहुते काम के मानल जाला. एह रात जानकार साधक अपना साधना में अउरी बढ़ोतरी करेले आ जे लोग अपना कष्ट भा समस्यन से मुक्ति चाहऽता ऊ लोग एह दिने कुछ खास प्रयोग कर के अपना आ अपना परिवार के सुरक्षित कर सकेला.

पहिलका प्रयोग :- सवा मीटर लाल कपडा, १०० ग्राम चावल, १०० ग्राम दही, आ एगो जलदार नारियल लीं.
ओकरा बाद घर के इशान कोण ( उत्तर पूरब वाला कोना) में जाके लाल कपडा बिछा दीं आ ओह पर दही, चावल खुला रख दीं. साथ में नारियलो रख दीं. फेर पूरा घर के एक बेर परिक्रमा करीं. एकरा बाद ओह लाल कपडा के ओह पर राखल सगरी सामान का साथ एगो मोटरी बान्ह लीं आ अगल बगल के कवनो नदी, तालाब, पोखरा, इनार में विसर्जित करके घरे लवटि आईं. ध्यान रहे कि लवटत घड़ी पीछे मुडे के नइखे देखे के, ना ही केहू से कवनो बातचीत करे के बा. ई प्रयोग अतना शक्तिशाली ह कि एकरा से रउरा परिवार पर आइल कवनो तरह के उपरी ब्याधि भा समस्या तुरते खतम हो जाई.

दोसरका प्रयोग :- सरसों के उबटन बना के अपना देहि पर मलीं आ ओकरा बाद निकलल गंदगी के होलिका में डाल दीं.

होली का दिने वाला प्रयोग :- वइसे त होली के दिन हर तरह के तंत्र प्रयोगन खातिर जानल जाला बाकिर जब केहू के आर्थिक समस्या बेसी होखे त ओकरा एह दिने कुछ ना कुछ सात्विक प्रयोग जरुरे करे के चाहीं. माँ लक्ष्मी के आराधना श्री सूक्त, कनकधारा स्तोत्र का माध्यम से भा लक्ष्मी गायत्री का माध्यम से जरुर करीं, सगरी कष्टन से मुक्ति मिल जाई.


वैभव नाथ शर्मा जी प्रतिष्ठित वास्तु शास्त्री, अंक शास्त्री, आ ज्योतिषी हईं. इहाँ के कार्यक्रम अलग अलग टेलीविजन चैनलन पर आवत रहेला. काशी के होखला का चलते भोजपुरी से विशेष अनुराग बा आ अँजोरिया के पाठकन खातिर ज्योतिष आ वास्तु शास्त्र से जुड़ल आपन सलाह समय समय पर देत रहे के तइयार हो गइनी. वैभवनाथ शर्मा जी राजज्योतिषी परिवार से आवेनी. आशा बा कि वैभवनाथ शर्मा जी के आलेख से अँजोरिया के पाठकन के कुछ लाभ मिली.

अपना व्यक्तिगत समस्या खातिर रउरा शर्मा जी से संपर्क कर सकीलें. उहाँ के संपर्क सूत्र नीचे दिहल जा रहल बा

फोन : +91-9990724131

ई मेल : vaibhava_vastuvid@yahoo.co.in

Loading

0 Comments

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up