एने कई दिन से परेशान रहनी हऽ. कुछ दिन पहिले अपना पुरान लैपटॉप के विन्डोज हटाके लीनक्स लगा लिहले रहनी. कारण रहुवे कि विन्डोज के हमार पुरनका लैपटॉप पसन्द ना रहि गइल रहुवे. पुरनका लैपटॉप पर विन्डोज अपडेट ना होखत रहुवे आ बजट नया खरीदे के इजाजत ना देल रहुवे. थाकहार के हम ओकरा पर लीनक्स सिस्टम लगा लिहनी.

बैटरिओ काम ना करत रहुवे से नया बैटरी लगा लिहनी. सब कुछ फिटफाट हो गइल. बाकिर एगो नया समस्या घेर लिहलसि. बन्द कइला का बाद दुबारा चालू होखे में टाइम बहुते लागल करे त पॉवर सेटिंग अइसन कर लिहनी कि बटन दबवला पर शट डॉउन ना हो के स्लीप मोड में चलि जाव. काम सुचारू हो गइल. बीच में कुछ दिन ला गाँवे जाए के पड़ल त लैपटॉप एहिजे छोड़ के चल गइल रहीं. आ गलती ई हो गइल कि शट डॉउन ना कर के सस्पेन्ड (विन्डोज के स्लीप लीनक्स में ससपेन्ड हो जाला) कर गइल रहीं.

संजोग से आवे में दू हफ्ता लाग गइल आ अब लैपटॉप चालू कइनी त बैटरी में पावर ना रहुवे. चार्जर लगवनी त लैपटॉप त शुरू हो गइल बाकिर देखनी कि बैटरी चार्ज ना होखत रहुवे. बैटरी नए रहल त लागल कि कहीं चार्जर मत खराब हो गइल होखे. से नया चार्जर मँगवा लिहनी. बाकिर ओकरा बादो हालात उहे रहुवे कि battery not charging.एह घरी के आदत हो गइल बा कि जबे कवनो सवाल उठे गूगल करि लऽ.

आ गूगल बाबा का बारे में त सभे जनबे करेला कि तू एगो पूछबऽ त ऊ लाख-करोड़ जबाब परोस दीहें. गनीमत इहे होला कि काम वाला जानकारी पहिलका पन्ना पर मिलिए जाला. त गूगल से मिलल जानकारी के हर उपाय करिके देख लिहनी. सब बेकार. हई देखिए, हऊ चेक करिए. ना होखे ल एक बेर बैटरी निकाल के फेर से लगाइए. हो सके त बैटरी के बारह घंटा फ्रीजर में रख दीजिए. उसके बाद निकाल के जब ऊ सामान्य तापमान पर आ जाव त लैपटॉप में लगाइए. एकरा बादो अगर चार्ज होखल शुरु ना भइल त सर्विस सेन्टर ले जाईं. अब उहे लोग बताई कि का आ कहवाँ खराबी बा. हो सकेला कि कह देेव लोग कि मदरबोर्ड के सर्किट खराब हो गइल बा. कुछऊ कह सकेला डॉक्टर जब खरबिरवा आ घरेलू इलाज काम ना कइला पर रउरा ओकरा से सलाह लेबे जाएब त.

बुझाव ना कि का का बदलीं. काहे ना एकबेर हिम्मत करिके एगो नया लैपटॉपे ले लीं. शायद मन कर जाइत बाकिर लीनक्स आदत बिगाड़ दिहले बा. हिन्दी, भोजपुरी, देवनागरी टाइप करेला लीनक्स जवन कीबोर्ड देला ऊ विन्डोज ना दे पावे. पता ना का कारण बा. हो सकेला कि सोचल होखे कि एह देवनागरी वालन खातिर माथ काहें खपाईं. जवन देत बानी तवना कीबोर्ड के इस्तेमाल करे के सीख ल लोग.

आखिर में सोचनी कि काहें ना एक बेर बलिया के फ्रेन्ड्स कम्प्यूटर – Friends Computer- वाला रजनीकान्त जी से पूछ लीं. हो सकेला कि ऊ कवनो आसान उपाय बता देसु. आखिर अँजोरिया के गिनल-चुनल भामाशाहन में उहोंका शामिल बानी.

रजनीकान्त जी कहलन कि कुछ मत करीं. लैपटॉप के चार्जर लगा के पूरा एक दिन छोड़ दीं. हम पूछनी कि बिजली कट जाव तब ? काहेंकि सोसाइटी के जनरेटर चालू होखबे करेला से केहू एहिजा इनवर्टर नइखे लगवले. त कहलन कि ना होखे त डेढ़ दिन ला छोड़ दीं.

आ खुशखबरी कि लैपटॉप बैटरी फुल चार्ज हो गइल आ समस्या खतम.

सोचनी कि काहें ना ई जानकारी अँजोरिया के पढ़वइनो के बता दीं. अइसन समस्या ओहू लोग का साथे हो सकेला. आ हँ, अबसे भुलाइयो के लमहर समय ला लैपटॉप के ससपेन्ड मत छोड़ब. ओह समय शट डॉउन क दीहल बढ़िया रही.

Loading

कुछ त कहीं......

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll Up