• रजनीश ओझा

चोरवन के चानी बा, पुलिस के आनंद बा,
हल्ला बा ! बिहार में दारू बंद बा ।

भईया का बारात में बान्हल आर्केस्ट्रा बा,
भरल कार्टून बा आ दु बोतल एक्स्ट्रा बा ।
थाना आ पुलिस के कइल रजामंद बा,
हल्ला बा ! बिहार में दारू बंद बा ।

मऊसी का बेटा के कलकता में घर बा,
खाली तनी जक्सन पर पुलिस के डर बा ।
बेग में बोतल बा, मन सकरकंद बा,
हल्ला बा ! बिहार में दारू बंद बा ।

देह जैसे लाठी ह, आम के आंठी ह,
गरई के चिखना आ देसी चुआँठी ह ।
जेठ का घाम में सुतल बा बान्हा पर,
दारु का नासा में गर्मी में ठंड बा ।
हल्ला बा ! बिहार में दारू बंद बा ।

बाटे परीक्षा आ यूपी में सेंटर बा,
ट्रेन के टिकट बा दारू के कैंटर बा ।
पीएम, नहाएम, आ भर के ले आएम,
बबुआ का मन में गजबे उमंग बा ।
हल्ला बा ! बिहार में दारू बंद बा ।

मालिक का दूअरा पर छीले के घास बा,
आज का दारू के उनके पर आस बा ।
बनिहारी का ऊपर से दस रुपया मिलेला,
पाउच पीके आइल बा मेहरी पर रंज बा ।
हल्ला बा ! बिहार में दारू बंद बा ।।

तरकुल का गाछी तर लागल उहे भीर बा,
भोर के तारी ह मीठ जैसे खीर बा !
पासी का मउगी के देख देख पियेला,
मरले बा तीन लोटा, नासा परचंड बा ।

आ हल्ला बा, बिहार में दारू बंद बा !

स्थायी पता – ग्राम – कुम्हइला, पो ऑफिस सिकटी भीखम जिला – सारण, बिहार पिन – 841421

By Editor

One thought on “दारूबंदी”
  1. बहुत सटीक,,एकदम हकीकत के शब्दों में पिरो देनी।।

कुछ त कहीं...

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.