गीतकार गुलजारो के लागत बा कि पुरस्कार लवटावे में तनिका राजनीति होखत बा.

पटना में एगो आयोजन में शामिल होखे आइल मशहूर गीतकार गुलजार कहलन कि लिखनिहारन के मिलल साहित्य अकादमी पुरस्कार लवटावे में तनिका राजनीति होखत बा. कहलन कि पहिले त ई जाने के चाहीं कि कसूर केकर बा. का साहित्य अकादमी एकर दोषी बा जे ओकर दीहल सम्मान वापस करत बाड़े लिखनिहार. गुलजार के कहना रहुवे कि नागरिकन के जानमाल के सुरक्षा के जिम्मेदारी सरकार के होले आ साहित्य अकादमी एह मामिला में कुछ ना कर सके. गुलजार के कहना रहल कि लागत बा कि लिखनिहार लोग देखावल चाहत बा कि ओह लोग से अकादमी नइखे सम्हरत.

Loading

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll Up