Tag: बाति के बतंगड़

बाँड़ का जनिहें चोरउका के पीड़ा : बाति के बतंगड़ – 14

– ओ. पी. सिंह मंगल का दिने मोदीजी फेरू एगो सर्जिकल स्ट्राइक मार दिहलें आ अबकी के हमला सीधे देश का हर घर, हर परिवार पर हो गइल. अबकी केहु…

मोदियात दुनिया का बीच भगले त गइले बेटा : बाति के बतंगड़ – 13

– ओ. पी. सिंह अबकिओ के दिवाली में पर्यावरण आ पशु प्रेमी होखे के दिखावा करे वाला लोगन के प्रवचन जम के भउवे आ करीब करीब ओतने जम के एह…

बाप के मरले कुँअर, महतारी के मरले टूअर : बाति के बतंगड़ – 12

– ओ. पी. सिंह भोजपुरी कहाउत – बाप के मरले कुँअर, महतारी के मरले टूअर – कतना सही हवे अबकी एगो वंशवादी परिवार के लड़ाई में देखा गइल. समाजवाद के…

भवे भाव से पतोह चाव से : बाति के बतंगड़ – 11

– ओ. पी. सिंह हँ हँ, खिसियइला के जरूरत नइखे. ई एगो खास रणनीति का तहत लिखाइल बा. एह घरी सभे कवनो ना कवनो रणनीति बना के बइठल बा. सर्जिकल…

घाव अइसन कि ना देखावते बने ना बतावते : बाति के बतंगड़ – 10

– ओ. पी. सिंह पाकिस्तान के आदत से तंग आ के पिछला हफ्ता भारत आपन “रणनीतिक संयम” के रणनीति छोड़ के पलटवार कइये दिहलसि. आ अइसन घाव दे दिहलसि कि…

राजनीति के खटिया पर चड्ढी उतारि के (बाति के बतंगड़ – 9)

– ओ. पी. सिंह पिछला बेर खटिया आ ओरचन के बतिया आधे प छोड़ देबे पड़ल रहुवे. आजु फेर ओकरे के लेके बढ़त बानी. खटिया लेके बहुते गाना फिलिमन में…

बबुआ जी वोटवा मांगेले खटिया बिछाई के बाति के बतंगड़ – 8)

– ओ. पी. सिंह राजनीति में खटिया के महत्व हमेशा से रहल बा बाकिर अबकी यूपी का चुनाव में ई शान से सामने आइल बा. अपना विरोधी के खटिया खड़ा…

भर घर देवर, भतारे से ठट्ठा (बाति के बतंगड़ – 4)

– ओ. पी. सिंह भर घर देवर, भतारे से ठट्ठा. कहाउत पुरान ह. जब ना त हम रहनी, ना मोदी जी. बाकिर हालही में मोदी जी के एगो बयान सुनि…