– अभय कृष्ण त्रिपाठी पापी हो गइल मनवा कइसे करीं राम भजनवा, प्रभुजी मोरे कइसे करीं राम भजनवा.. आइल बानी द्वार तिहारे, मन ही मन में रजनी पुकारे, पुलकित होवे ला मदनवा, प्रभुजी मोरे कइसे करीं राम भजनवा.. दाता के भंडार भरल बा, जियरा देखीं सगरे गरल बा, प्राणी देपूरा पढ़ीं…

Advertisements