आदमी अइसहीं बेवफा ना बन जाला आ कुछ एही तर्ज पर कहीं त केहू अइसहीं बागी बना हो जाला. बगावत का जड़ में बहुते बेबसी दबल छिपल होले. लेखक निर्देशक ए.आर.एस. सरकार के फिल्म “बागी” में अजय दीक्षित अपना पर होखे वाला अत्याचार, अनाचार का चलते “बागी” बन जात बाड़े. “बागी” आम भोजपुरी फिल्मन का तरह ना होके लीक से हटके बनल फिल्म बा जवना में एगो नीमन कहानी के मनोरंजन का चासनी में डालत फिल्मावल गइल बा. ई एगो प्रयोगधर्मी फिल्म ना जे सर्वहारा आ सामंती सामाजिक व्यवस्था का बीच के द्वन्द के बेबाकपन का साथे बयां करे जा रहल बा. डॉक्टर जे.एन.फिफ्टी सिस प्रोडक्शन आ ए जे एम फिल्म्स आ स्कूल डिविजन के प्रस्तुति “बागी” के निर्माता एआर.एस. सरकार, शकील खान अउर मंसूर आज़मी हउवें. फिल्म में शीर्षक भूमिका में अजय दीक्षित आ उनकर हमराह बनल बाड़ी नवोदित रानू पाण्डेय. फिल्म के बाकी मुख्य कलाकारन में विजय खरे, सीमा सिंह, श्रवण कुमार सक्सेना, संतोष कौशिक , शंकर सिंह, विजय शुक्ला, भानु पाण्डेय, वाहिद हासमी , रोज़ा आ शिव कुमार बाड़े. राज इन्द्र राज के मधुर संगीत से सजल एह फिल्म के गीतकार साहिल सुल्तानपुरी आ पवन मिश्रा हउवें. डॉ. अशोक जैन आ अनीता जैन के प्रस्तुति “बागी” के शूटिंग पिछला दिनों मुंबई से २०० किलोमीटर दूर पालघर में करावल गइल. आ अब एकर पोस्ट प्रोडक्शन के काम जोर शोर से चल रहल बा.


(स्रोत – उदय भगत)

[Total: 0    Average: 0/5]
Advertisements