Advertisements

भोजपुरी साहित्य

फगुवा ह फगुवा

– तारकेश्वर राय पुरनकी पतईया, फेड़वा गिरावे । जइसे गिरहथ, कवनो खेतवा निरावे ।। नइकी पतइया...

सांवरिया आ जइतऽ एक बार

गीतकार- लाल बिहारी लाल स्त्री स्वर- सांवरिया आ जइतऽ एक बार अंखियाँ कब से राह निहारे, नैना तरसे...

शिलीमुख के कबिताई

– शिलीमुख जेकरा पर बा तोहके नाज ओकरे से बा बिगरत काज ! अँइचा के ऊजर ना लउके आन्हर के सूघर ना...

Loading

सतमेझरा

Loading

संपादक के पसन्द

मानिक मोर हेरइलें

– आचार्य विद्यानिवास मिश्र भोजपुरी में लिखे के मन बहुते बनवलीं त एकाध कविता लिखलीं, एसे अधिक...

साँच उघारल जरूरी बा !

– डॉ अशोक द्विवेदी हम भोजपुरी धरती क सन्तान, ओकरे धूरि-माटी, हवा-बतास में अँखफोर भइनी। हमार...

Loading

भोजपुरी सरोकार

शिलीमुख के कबिताई

– शिलीमुख जेकरा पर बा तोहके नाज ओकरे से बा बिगरत काज ! अँइचा के ऊजर ना लउके आन्हर के सूघर ना...

Loading

पुस्तक चर्चा

Loading
Advertisements

Categories