जिम्मेदारी

– रामरक्षा मिश्र विमल

 

जिम्मेदारी

सघन बन में

हेभी गाड़ी के रास्ता

खुरपी आ लाठी के बल

नया संसार

स्वतंत्र प्रभार

 

जिम्मेदारी

जाबल मुँह भींजल आँखि

फर्ज के उपदेश आ निर्देश

गोपाल के ठन ठन

नपुंसक चिंतन

 

जिम्मेदारी

तलवार के धार

मित्रन के दुतरफा वार

आदर्श विचार

साँप आ छुछुंदर के गति

धीर गंभीर आ शांत मति

 

जिम्मेदारी

तर तर घी चूअत पूड़ी आ गरम जलेबी

माछी आ चिउँटिन के बहार

प्रतिबंधित लार

रहरी के खेत में हुँड़ार

 

जिम्मेदारी

बेईमानी के खोंप पर

ईमानदारी के टोपी

स्वारथ के छोटकी दुआर

भूसा के कतने इयार

जवान सुंदर आ शोख

बाघ आ बकरी के परतोख.

 

(नया-नया प्रतीक आ बिंबनवाली एह कविता के हर पंक्ति सूत्र वाक्य नियन लागतिया. एह से एह समकालीन कविता के एक बेर फेरु प्रस्तुत कइल जा रहल बा. -संपादक)

RRM Vimal

Advertisements

Be the first to comment on "जिम्मेदारी"

Leave a Reply

%d bloggers like this: