जुआड़ी ताके आपन दाव !

by | May 26, 2024 | 0 comments

– बिनोद सिंह गहरवार

जतने मुँह ओतने दावा,बुझाते नइखे केकर बा हावा. केहु कहऽता अबकी बेरा चार सौ पार. केहु कहऽता डेढ़ सौ प ढ़ेर. केहु कहऽता, केहु के जीत केहु के हार बाकिर कसहुँ जीत जाय परिवार. केहु के पार्टी के नाक के सवाल बा त केहु के परिवार के साख दाव प बा. साख बचावे खातिर लोग गाँव-गाँव , मोहाला-मोहाला के चउगेठा मार रहल बा. एह में केहु के लुक-घाम, हवा-बयार के चिंता नइखे. सभे घामे-घामे बंगड़ेड़ा भइल फिरता. केहु जात के नाम प, त केहु धरम के नाम प, त केहु नोकरी के नाम प, त केहु बिजुली, पानी, दवा-दारु, फ्री फंड के नाम प जनता प झटहा चला रहल बा.

भाई पाँच साल के खेती ह. आई आम चाहे जाई झटहा. अपना से कवनो चुक ना होखे के चाहीं. आउर चीझ त साल छव महीना प आ जाला बाकिर एम. पी., एम. एल. ए. बने के चानस पाँच साल का बादे आवेला. एह से सभे सोचता कि चलs दू महिना के बात बा. गदहो के बाप कहे में कवनो हरज नइखे. एकरा बाद फेर लोग के बाप बनिए जाए के बा. बाप त छोट-मोट बात भइल. बाप त चुनाव जीतते लोग बन जाला. गलती से कहीं मन्त्री पद मिलल कि लोग सभे के माईबाप बन जाला.

गईल माघ अब उनतीस बाकी. संउसे हाथी निकल गइल बा खाली पोंछ अंटकल बा. सात चरण नाँव के बा. साँच पुछीं त चुनाव दुइए चरण के होला. चुनाव के बेरा नेता जनता के चरण में रहेला आ चुनाव होते जनता नेता के चरण में.

फिलहाल सभे आखाड़ा में कुरछाड़ रहल बा. आपन-आपन दाव चला रहल बा. को बड़ छोट कहत अपराधु. केहु जेल से निकल के पंजाब हरियाणा दिल्ली डगडगा रहल बा. केहु रोग-बलाय के लाथ क के जेल से निकल के छपरा में छपक रहल बा. केहु गवनई-बजनई छोड़ के घामे-घामे गली-गली के झिटका फोर रहल बा. रिंकिया के पापा के हीं.. हीं…ही.. हँसल गायेब हो गइल बा. बाकिर सभे आपन बाढ़ मना रहल बा.

बखोरन काका एको चुनाव ना छोड़स. उनकर पर चले त राष्ट्रोपति के चुनाव लड़ जइहें. अबकियो दाव अजमा रहल बारन. उनकर चुनाव चिन्ह बैगन छाप बा. लोग से कहत बारन, “किया त बैगने के सिर प ताज रहेला ना त बदशाहे के. अबकी जनता हमरा सिरे ताज बान्हे के मन बना लेले बा. “हम उनकर कॉन्फिडेंस देख के शाहेब काका से पूछनी, “काका हई देखऽतानी, इनका के आपन गोतिया-पटिदरवो ओट नइखे देत बाकि इहो चुनाव जीतत बारन.” साहेब बाबा अनुभवी आदमी रहन, कहलन, “चुप ससुरा, जुआड़ी ताके आपन दाव!”

Loading

0 Comments

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up