भोजपुरी फिलिमन प लागल फूहड़पन के दाग धो दी ‘डमरू’

भोजपुरी सिनेमा पर फूहड़पन ले के हमेशा अंगुरी उठत रहेली सँ. एही अछरंग के मेटावे धोवे के कोशिश करत आवत बा बाबा मोशन पिक्‍चर्स जे भगवान आ भक्त के कहानी…

सभ्य समाज के समर्पण के भाषा ह भोजपुरी

– ओमप्रकाश अमृतांशु जेकर आत्मा संगीत के रस के सराबोर होखेला उ मनुष्य भगवान के अतिप्रिय होखेला. एही से संगीत में शुद्वता आ शास्त्रीयता के महत्व होखेला. स्वर के उपासना,…

Scroll Up