गजल

– डा0 अशोक द्विवेदी

DrAshokDvivedi

दउर- दउर थाकल जिनगानी
कतना आग बुतावे पानी !

बरिसन से सपना सपने बा ;
छछनत बचपन बूढ़ जवानी ।

हरियर धान सोनहुली बाली,
रउरे देखलीं , हम का जानी ?

कबहूँ -कबहूँ क्षुधा जुड़ाला
जहिया सबहर जरे चुहानी ।

पूत -पतोह बसल परदेसे –
उचटल बखरी, छूँछ पलानी ।

खन सझुराईं खन अझुराईं
जस के तस बा अकथ कहानी ।

‘देसिल बयना’ जुग से पिछड़ल
अंगरेजी के बा रजधानी !

Advertisements

Be the first to comment on "गजल"

Leave a Reply

%d bloggers like this: