समाचार? सब ठीक बा!

– डॉ० हरीन्द्र ‘हिमकर’

HarindraHimkar

सीमा के पाती, बॉंची जा
एह चिठ्ठी में चीख बा।
दिल्लीवालन भूल ना जाईं
समाचार सब ठीक बा।।

धान-पान सब सूख गइल बा
खेत-मजूरा चूक गइल बा।
पेट-पेट में कोन्हू नाचत
हियरा-हियरा हूक गइल बा।

घर में कहॉं बचल अब दाना?
एक आसरा भीख बा
समाचार सब ठीक बा।

सरकारी पाखंड ठीक बा
अंचल के भूखंड ठीक बा।
लोटा-थारी बन्हकी बाटे
मुखिया आ सरपंच ठीक बा।।

चूसे में चउकस बा थाना
आपन मंशा नीक बा
समाचार सब ठीक बा।

बेकारी अब तूर रहल बा
रोग-बेयादी घूर रहल बा।
हरिआली त हवा हो गइल
दवा रोग से दूर भइल बा।।,

चाल शराबी बा शासन के
मनमानी के लीक बा
समाचार सब ठीक बा।।

ऊॅंख कटल आ मिलल ना पईसा
मिलल बहुत कर्जा में भईंसा।
बॉंटे खाए के जुग बाटे
मजदूरन घर रहत सतईसा।।

कृपा क के नोट छपाईं
आफत बा आ दीक बा
समाचार सब ठीक बा।

जात-पॉंत के बोल-बाल बा
मन में काई ओंठ लाल बा
भाई-बंदी चूर-चूर बा
दलवालन के ई कमाल बा।।

लूट-पाट होता रोजाना
पुलिस मगर निर्भीक बा
समाचार सब ठीक बा।

आर-पार आवत जाताटे
समरथ तऽ खूबे खाताटे।
मत पूछी कइसे का होता
जोंक लगल बा पाटे-पाटे

पेरनी तऽ पटना दिल्ली में
आनहर जनता ईंख बा
समाचार सब ठीक बा।

चलते बा त राज चलाईं
खूब तिरंगा के फहराईं।
कुरसी, कार, करमवाला मिल
खाईं पीं आ मौज उड़ाईं।।

हमर पत्तल खाली-खाली
उनका बोतल सींक बा
समाचार सब ठीक बा।


डॉ हरीन्द्र ‘हिमकर‘
प्रॉफेसर्स कॉलोनी
रक्सौल

Advertisements

Be the first to comment on "समाचार? सब ठीक बा!"

Leave a Reply

%d bloggers like this: