चिट्ठी

by | Mar 31, 2010 | 0 comments

Dr.Ashok Dvivedi

– डा॰अशोक द्विवेदी

हम तोहके कइसे लिखीं?
कइसे लिखीं कि
बहुते खुश बानी इहाँ हम
होके बिलग तोहन लोग से…

हर घड़ी छेदत-बीन्हत रहेला
इहवों हमके गाँव
इयाद परावत रहेला हर घड़ी
ओइजा के बेबस छछनत जिन्दगी.
कल कहाँ बा बेकल मन के एहूजा?
हम ई सब लिखि के नइखीं चाहत मन दुखावल तोहार.

रुपया आ रौनक का एह शहर में
देखले बानी हमहुँ
एगो सुबिधा, न जिनिगी जिये के सपना.
सपना त पतई पर टँगाइल
ओस के बूने नु हऽ
घाम लागल ना कि उड़ि गइल.
फेरु शहर त शहर हऽ
इहवाँ अंत ले ना हो पावेला आदमी के
इतमीनान.

साँच मानऽ हमार परतीत करऽ
भुलाइल नइखीं हम कुछऊ
ना त, होत फजीरे तहरा पातर होठन पर
थिरके वाली किरिनिन के लाली
ना घर ना दुआर
ना खेत ना बधार
हमके इयाद बा आजो ऊ कटहरी चंपा के
बरबस खींचे वाली गंध
जवन पछिला साल हुलसि के खिल गइल रहे
आ तनिकी बर बोल दिहल पर मिलल रहे
अधरसा अमरुद अस न्यौतत
तहार मीठ झिड़की
ऊ बनावटी खीसि में आँख तरेरल तोहार
भला कइसे भोर परी?
बाकिर का करीं?
जवना खातिर घर छूटल
ऊ गरीबी, ऊ बेबसी
ऊ तहरा पुरान खाँखर होत साड़ी से झाँकत
मसकल कुर्ती
हमके भर नीन सूते ना देलस
आजु ले!

मन मार के केहूँ तरे जीयल
भला कवनो जीयल ह?
कूल्ही उछाहे मरि जाव जब जब जियला के
हँसी गायब हो जाय धीरे धीरे ओठन से
ना ना,
हम माई आ बाबूजी लेखा
नइखीं जीयल चाहत, मार के मन,
एही से
झोंकि दिहनी हम अपना के
अनजान शहर का एह दहकत भरसाईं में.

अब कम से कम एगो भरोसा आ
एगो सपना त बा
ढंग से जिनिगी जीये के
हम लड़त त बानी ओकरा खातिर इहां.

घबड़इहऽ जिन तू तनिको
इहाँ ठहर ठेकाना हो गइल बा
आ बहुत कुछ नीक जबून के ज्ञान
आज सिरिफ कुछ रुपिया भेजि के मनिआर्डर
ना होई सुब्बुर हमके
कपड़ो लत्ता से ना,
हम त देखल चाहत बानी
तोहन लोग के एतना खुशहाल
जेमे ना होखे अइसन कुछ के कमी
कि मन मार के जिये के परे…
एही इन्तजाम में बानी.

मत होइहऽ तनिको उदास तूँ
मन के थिर रखिहऽ
माई बाबू के दीहऽ ढाढस आ विश्वास,
हम जल्दिये लौटब गाँव
हो सकी त एही फगुआ ले!


डा॰ अशोक द्विवेदी के अउरी रचना

Loading

0 Comments

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up