फगुवा ह फगुवा

by | Feb 13, 2018 | 0 comments

– तारकेश्वर राय

पुरनकी पतईया, फेड़वा गिरावे ।
जइसे गिरहथ, कवनो खेतवा निरावे ।।
नइकी पतइया बदे, जगहा बनावे ।
जाए के बा एक दिन, इहे समझावे ।।

चइती फसलिया, बा गदराइल ।
लागत फगुनवां, बा नियराइल ।।
सरसो पियरकी से, खेतवा रंगाइल ।
अमवाँ मउराइल, महुवा मोजराइल ।।

चारु ओर सुनाता, कोइलिया के बोली ।
भइया त खुश बान, देख भउजी के डोली ।।
ढोल मृदंग के, धमाल खोरी खोरी ।
उड़ता रंग, अबीर, चारु ओरी ।।

फगुवा में भंगिया के, कदर बढ़ि जाला ।
भख के बुढ़वो, जवान होइ जाला ।।
मस्ती में, देखीं सभे बाटे रंगाइल ।
केहू बा पसरल, केहू टँगाइल ।

मस्ती के नाद में, सभे बा बूड़ल ।
रंग में रंगाइल, तरंग से बा जुड़ल ||
ए पाहुन, ए काका, कहाँ गइली भउजी ?
केहू चिन्हाते नइखे, मुहवा रंगाइल ||

बलटि में घोराइल बा, रंगवा के शीशी ।
हुड़दंगई देख भउजी, नाच गइली खिसी ।।
देवरा त ऊपर बा, ननदिया बिया नीचे ।
कबो भउजी खींचे, कबो उनके मीचे ।।

भर भर फिचकारी के, रंग डाले ससुरा ।
लागत की छोड़ी नाही, ताकताटे भसुरा ।।
दउड़ हो, छोड़ हो, भांग जिन घिसरा ।
नन्दोई त भाग गइले, भेंटा गइले मिसरा ।।

जी भरि के रंगइले, खूबे पटकइले ।
मिसरा के छोड़ावे में, भइयो धरइले ।।
देखि के भइया के, गजबे सुरतिया ।
हँसेले पाहुन, खूब हँसेले मइया ।।

रंग से रंगाइल, अब अबीर पोताईं |
सुनि ल ए भइया, सुन गोसाईं ।
गोझिया खाई खाई, फगुवा गाईं ।
फुहर ना गाईं, ना फूहर गवाईं ।।

हंसी मजाक के, फगुवा तेवहार ह ।
रंग में गोतइला के, अलगे बहार ह ।।
अगिया बुतावे पानी, मीठ चाहे खार होखे ।
रंगवा से धोइ ल, जवन मनवा में रार होखे ।।

बिहँस के मिलला से, जुड़ा जाला जियरा ।
नाही फर्क कवनो, लमा रहीं भा नियरा ।।
नाते से त जरेला, जिनिगी के दियरा ।
ना त सुने सिवान, जइसे फेकरेला सियरा ।।


तारकेश्वर राय
ग्राम + पोस्ट : सोनहरियाँ, भुवालचक
जिला : गाजीपुर, उत्तरप्रदेश

Loading

0 Comments

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up