फागुन के उत्पात: भइल गुलाबी गाल

by | Mar 26, 2013 | 1 comment

– मनोज भावुक

हई ना देखs ए सखी फागुन के उत्पात ।
दिनवो लागे आजकल पिया-मिलन के रात ॥1॥

अमरइया के गंध आ कोयलिया के तान ।
दइया रे दइया बुला लेइये लीही जान ॥2॥

ठूठों में फूटे कली, अइसन आइल जोश ।
अब एह आलम में भला, केकरा होई होश ॥3॥

महुआ चुअत पेड़ बा अउर नशीला गंध ।
भावुक अब टुटबे करी, संयम के अनुबंध ॥4॥

बाहर-बाहर हरियरी, भीतर-भीतर रेह ।
जले बिरह के आग में गोरी-गोरी देह ॥5॥

भावुक हो तोहरा बिना कइसन ई मधुमास।
हँसी-खुशी सब बन गइल बलुरेती के प्यास ॥6॥

हमरो के डसिये गइल ई फागुन के नाग।
अब जहरीला देह में लहरे लागल आग ॥7॥

मन महुआ के पेड़ आ तन पलाश के फूल ।
गोरिया हो एह रूप के कइसे जाईं भूल ॥8॥

हँसे कुंआरी मंजरी भावुक डाले-डाल ।
बिना रंग-गुलाल के भइल गुलाबी गाल॥9॥

जब-जब आवे गाँव में ई बउराइल फाग।
थिरके हमरा होठ पर अजब-गजब के राग॥10॥

कोयलिया जब-जब रटे काम-तंत्र के जाप।
तब-तब हमरो माथ पर चढ़िये जाला पाप ॥11॥

मादकता ले बाग में जब वसंत आ जाय।
कांच टिकोरा देख के मन-तोता ललचाय ॥12॥

तन के बुझे पियास पर मन ई कहाँ अघाय।
ई ससुरा जेतने पिये ओतने ई बउराय ॥13॥

गड़ी,छुहाड़ा,गोझिया भा रसगुल्ला तीन।
के तोहसे बा रसभरल, के तोहसे नमकीन॥14॥

चढ़ल ना कवनो रंग फिर जब से चढ़ल तोहार।
भावुक कइसन रंग में रंगलs अंग हमार॥15॥

आग लगे एह फाग के जे लहकावे आग ।
पिया बसल परदेश में, भाग कोयलिया भाग॥16॥

लहुरा देवर घात में ले के रंग-गुलाल।
भउजी खिड़की पे खड़ा देखें सगरी हाल॥17॥

अंगना में बाटे मचल भावुक हो हुड़दंग।
सब के सब लेके भिड़ल भर-भर बल्टी रंग॥18॥

साली मोर बनारसी, होठे लाली पान।
फागुन में अइसन लगे जस बदरी में चान॥19॥

कबो चिकोटी काट के जे सहलावे माथ ।
कहाँ गइल ऊ कहाँ गइल, मेंहदी वाला हाथ॥20॥

फागुन में आवे बहुत निर्मोही के याद ।
पागल होके मन करे खुद से खुद संवाद॥21॥

माघ रजाई में रहे जइसे मन में लाज ।
फागुन अइसन बेहया थिरके सकल समाज॥22॥

कींचड़-कांदों गांव के सब फागुन में साफ।
मिटे हिया के मैल भी, ना पूरा त हाफ॥23॥

महुए पर उतरल सदा चाहे आदि या अंत।
जिनिगी के बागान में उतरे कबो वसंत ।।24॥

के बाटे अनुकूल आ के बाटे प्रतिकूल।
ई कहवाँ सोचे कबो उड़त फागुनी धूल॥25॥

फागुन के हलचल मचल खिलल देह के फूल।
मन-भौंरा व्याकुल भइल, कर ना जाये भूल॥26॥

झुक-झुक के चुम्बन करे बनिहारिन के गाल।
एतना लदरल खेत में जौ-गेहूं के बाल॥27॥

एतना उड़ल गुलाल कि भउजी लाले-लाल।
भइया के कुर्ता बनल, फट-फुट के रूमाल॥28॥

मह-मह महके रात-दिन पिया मिलन के याद।
भीतर ले उकसा गइल, फागुन के जल्लाद॥29॥

भावुक तू कहले रहS आइब सावन बाद।
फगुओ आके चल गइल, ना चिट्ठी,संवाद॥30॥


(अँजोरिया पर पहिले प्रकाशित भइल रहुवे. अब ओहिजा से हटा के एहिजा ले आइल गइल बा.)

Loading

1 Comment

  1. amritanshuop

    I LIKE THIS. HAPPY HOLI

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up