राम मन्दिर के नेवता

by | Dec 24, 2023 | 0 comments


– बिनोद सिंह गहरवार

हार पछता के काल्ह दिल्ली से पटना आ गइनी. आपन हारल आ दीदी के मारल केकरा से कहीं. आजु दू बरिस से एँड़ी चोटी एक क के सभे के हेरा में बान्हे के निष्फल प्रयास कइले रहीं. अइन मौका प अपना आदत क अनुसार दीदी बाँगड़ मार दिहली. हम जानत रहीं, बिपक्षी एकता मतलब बिना मेंह के दँउरी. अइसे त लोग पहिलही से खूँटा तुड़ात रहे बाकि असरा रहे कि लोग हमरा के पेठिया नाध दिही त हम चौबीस के दँउरी में उनका के लसार के पुअरा क देतीं. बाकिर खुदे गतान बन के पटना आ गइनी. पटना में पोस्टर के परपराइल, बैनर के बरबराइल आ होर्डिंग के हाल्ला कइला प एकदमे पानी फेरा गइल. आवते-आवते त पहिले एह सभन के नोच-नाच के गतलखाना में फेंकवइनी. एकरा बाद त्यागी जी से फोन प कहनी कि टीवी डिबेट में प्रधानमंत्री मैटेरियल के माला जापल जतना जल्दी होखे त्याग दीं. काहे से कि अब एह कुल में कवनो लस नइखे.आरे हमरा के पेठिया ना चले देब लोग, मत चले देव, ठीक बा, बाकि गवत-पानी त ठीक से दीहल चाहत रहे. खाली सिंघाड़ा आ चाह प छेंवक देलख लोग. इ त एकदम बर्दाश्त से बाहर हो गइल.

एने कुछ दिन से सबकुछ हमरा साथे उल्टे होखऽता. एह झटका से उबरल ना रहीं कि जरला प खोरे खातिर अजोधेया से नेवता आ गइल. जोगी बाबा बड़ा लमहर जग करावत बाड़न. देशे-देशी नेवता भेजले बाड़न. बुझ ल कि हमार हाल साँप-छछूंनर वाला हो गइल बा. कतना बढ़िया से टीका लगा के कबो चरनामिरित चीख लेत रहीं, त कबो चरखानवा गमछी ओढ़ के खजूर खा लेत रहीं. राम भक्तन प – ‘ राम लला हम आएँगे, मंदिर वहीं बनाएँगे, पर तारीख नहीं बताएँगे,’ कह के गाभी मार-मार के धर्मनिरपेक्षता के महंतो बनल रही, सभ प पानी फेरा गइल. इ कोट-कचहरी जवन ना करावे. फैसला सुना के सब गुड़ गोबर क देलस. हमरा त बुझाता कि इहो अपना रस्ता से भटक गइल बा. ना त कतना बढ़िया तारीख प तारीख देत रहलें आ हमनी के धर्मनिरपेक्षता के दोकानो बमबम करत रहे. एकरे के समय के फेर कहाला.

एगो ऊ बा कि माटी छुअता त सोना हो जाता, आ एगो हम बानी सोना छुअतानी त माटी हो जाता! अच्छा इ कुल्ह भुला के त हम धूर झार के खड़ा हो जाइब बाकि हइ नेवतवा के का करीं! एकरा प जब-जब हमार नजर पड़ऽता, तब-तब हमरा छाती प साँप लोटे लागत बा. सोच-सोच के हम दुबराइल जात बानी कि हम जवन-जवन ना चहनी अस के उहे होके रहल. हम ना चहनी कि एनडीए उनुका के नेता माने, एनडीए उनुके के नेता मान लेलस, हम ना चहनी कि ऊ प्रधानमंत्री बनस, ऊ प्रधानमंत्री बन गइलन. अब ऊ पियरी पहिन के हमरा आँखी के सोझा प्राण प्रतिष्ठा के जजमान बनिहें, भला इ हम कइसे देखब! ए अँखिया, इ सभ देखे के पहिले ते फूट काहे नइखिस जात! हम कतनो चाहब बाकि काहे के ऊ होखे जाय … हँ इण्डिया में फूट जरूर हो जाई.

चलीं फिलहाल इ कुल्ह सोचला से कवनो फायदा नइखे. बुझाता कि रामभक्त गीतवा सांचे गावेलन स – ‘राम ना बिगड़िहें जेकर, केहु ना बिगाड़ी जी’ !

Loading

0 Comments

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up