शासन चलावल, बच्चा पालल आ दूध उबालल बिना खड़ा भइले ना हो पावे ( बतकुच्चन – १२७)

by | Sep 24, 2013 | 1 comment


गंगा, तिरंगा, नवरंगा, बहुरंगा, एकरंगा, लफंगा, भिखमंगा, लंगा, आ दंगा.

तिरंगा आ बहुरंगा आबादी वाला अपना देश में गंगा के महत्व बहुते बा. बाकिर गंगा के खासियते में एगो अइसन गुन लुकाइल बा जवना के केहू बढ़ियो कह सकेला त केहू खराबो. जइसे कि गंगा अपना में सगरी कुछ बहा समा ले जाली आ ओकरा बावजूद उनुका पवित्रता में, उनुका सम्मान में कवनो कमी ना आवे. गंगा के एही खासियत के कुछ लोग नाजायजो फायदा उठावेला आ आपन सगरी कचरा उनुके में बहवा देला अपने पवित्तर बनल रहे खातिर. देश के राजनीतिओ अइसने गंगा हो गइल बा जवना में सबकुछ समाइल जात बा आ राजनीति के भिखमंगा, लफंगा एह बहुरंगा नवरंगा देश के एकरंगा बनावे के कोशिश में लागल बाड़ें. एहिजा एकरंगा कवनो धार्मिक एका के नइखीं कहत, सभका के एके पाला में डाल लेबे के कोशिश के कहत बानी. काहे कि एकरंगा विशेषणो होला आ संज्ञा रूप में लाल कपड़ो के कहल जाला. हरियर, आसमानी, नीला, सफेद, करिया, भगवा के एकरंग होखला का बावजूद एकरंगा ना कहाव.

पिछला दू हफ्ता से अधिका ले देश के बड़का प्रदेश, गंगा के मैदान के देश उत्तर प्रदेश फिरकावाराना आग में जरत बा. आ एकर दोस बस राजनीति में आइल लफंगई, नंगई के दिहल जा सकेला जे अपना फायदा ला समाज के टुकड़ा टुकड़ा बाँट अपना बखरा में बड़हन टुकड़ा समेटे के कोशिश करे में लागल बा. दंगा से दंग हो जाए के चाहीं प्रशासन के बाकिर एहिजा वइसन कुछ नइखे लउकत. प्रशासन एह दंगा से दंग नइखे ओकरा सब कुछ के जानकारी पहिले से बा आ ऊ सब कुछ जानत समुझत आपन खेल खेले में लागल बा. बापे पूत परापत घोड़ा, बहुत नहीं त थोड़ा थोड़ा वाला अंदाज में बबुआ अपना बाबूजी के कान काटे में लागल बाड़ें.

कुछ दिन पहिले इहे प्रशासन आपन पराक्रम देखावत परिक्रमा रोक दिहलसि काहे कि ओकरा के रोकल सहज रहे आसान रहे. बाकिर दू गो नवहियन के घेर के मारे वाला अपराधियन के काबू करे में, ओकनी के गिरफ्तार करे में ओकर कवनो रुचि ना रहल. सोचलसि कि मामिला जइसे तइसे शांत हो जाई. बाकिर मामिला हाथ से बेहाथ हो गइल. राज्यपाल तक के लिखे के पड़ल कि सरकार आपन काम समय पर ना कइलसि आ छोट मोट मामिला बड़हन बन गइल. शरम के बात होखे के चाहीं कि एह दंगा के रोके में परिक्रमा रोके वाला पराक्रम कामे ना आ सकल आ सेना बोलावे पड़ल. पहिला बेर गाँवन के हालात काबू में करे ला सेना के गाँवन का बीच मार्च करे के पड़ल. संतोष बस अतने बा कि मामिला काबू में आ गइल बा आ अब हालात सामान्य होखे लागल बा. बाकिर अगर रीति नीति ना बदलल त कहिया ले ? वोट के एह लंगन, भिखमंगन, आ लफंगन के राह प ले आवल अतना आसान बा का? तसला में राखल दूध चुल्हा पर चढ़ल फफनाए का कगार पर बा. अबगे शांत लउकत बा अबहिए फफना उठी. शासन चलावल, बच्चा पालल आ दूध उबालल बिना खड़ा भइले ना हो पावे. नजर एने से ओने भइल कि मामिला बिगड़ल.

बा अतना धीरज?


(१५ सितंबर २०१३)

Loading

1 Comment

  1. omprakash amritanshu

    बहुत नीमन लागल राउर
    गंगा, तिरंगा, नवरंगा, बहुरंगा, एकरंगा, लफंगा, भिखमंगा, लंगा, आ दंगा.

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up