भोजपुरी सिनेमा में साल 2017 रहा खेसारीलाल यादव के नाम

लगातार फूहड़ता के आरोपों के बीच भोजपुरी सिनेमा इंडस्‍ट्री के लिए 2017 का साल बेहद खास रहा है। इस साल में न सिर्फ अच्‍छी फिल्‍में बनीं, बल्कि कई फिल्‍में ब्‍लॉकबस्‍टर रही। लेकिन भोजपुरी सिनेमा में इस साल सुपर स्‍टार खेसारीलाल यादव का सिक्‍का जमकर चला। 2017 उनकी फिल्‍मों से बदलाव की एक झलक दिखी। साथ ही खेसारीलाल ने अपने अभिनय में काफी इंप्रूवमेंट किया, जिसका नतीजा ये रहा है कि उनकी सभी फिल्‍मों ने बॉक्‍स ऑफिस पर जबरदस्‍त करोबार किया। साथ वे भोजपुरिया दर्शकों की पहल पसंद बनकर उभरे। यूं तो पवन सिंह, दिनेशलाल यादव निरहुआ, प्रदीप पांडेय चिंटू, यश कुमार की फिल्‍मों को भी लोगों ने पसंद किया, मगर इन सब पर खेसारीलाल यादव भारी पड़े।

खेसारीलाल यादव ने साल 2017 की शुरूआत की फिल्‍म ‘मेंहदी लगा के रखना’ से, जिसे रजनीश‍ मिश्रा ने डायरेक्‍ट किया। बतौर डायरेक्‍टर रजनीश मिश्रा की यह पहली फिल्‍म थी। इससे पहले इंडस्‍ट्री में उनकी पहचान म्‍यूजिक डायरेक्‍टर की रही है। इस फिल्‍म में पहली बार भोजपुरी सिनेमा के सुपर विलेन अवधेश मिश्रा ने एक पिता का पॉजिटिव रोल में नजर आये, जिसे लोगों ने खूब पसंद किया। वहीं, खेसारीलाल और उनकी को-स्‍टार काजल राघवानी के साथ केमेस्‍ट्री और फिल्‍म में संस्‍कृति और सामाजिक परिवेश की झलक ने फिल्‍म को बेहद शानदार बना दिया। यही वजह रही कि बहुत दिनों बाद सिनेमाघरों में बड़ी संख्‍या में महिलाओं की इंट्री हुई और उन्‍हें ये फिल्‍म खूब पसंद आई।

इसके बाद खेसारीलाल यादव की ‘दिलवाला’ ‘हम हैं हिंदुस्‍तानी’, ‘जिला चंपारण’, ‘मैं सेहरा बांध के आउंगा’ और ‘मुकद्दर’ जैसी एक के बाद एक बेहतरीन फिल्‍मों ने ये दिखा दिया कि भोजपुरी फिल्‍मों में भी क्‍लास होता है। खेसारीलाल की इन सभी फिल्‍मों में सबसे शानदार बात ये रही है कि इसकी पटकथा, संवाद, मेकिंग, गाने आदि काफी अच्‍छी थे, जिस वजह से लोगों ने इन फिल्‍मों को हाथों हाथ लिया। इस दौरान खेसारीलाल के साथ काजल राघवानी की जोड़ी को लोगों ने दिल खोलकर प्‍यार दिया। सिर्फ ‘दिलवाला’ और ‘जिला चंपारण’ को छोड़कर, जिसमें अक्षरा सिंह, मोहिनी घोष और डेब्‍यूडंट मणि भट्टाचार्य नजर आईं।

हालांकि, ‘दिलवाला’ के रिलीज के दौरान एक विवाद भी सामने आया, जिसमें फिल्‍म की अभिनेत्री अक्षरा सिंह को लेकर सोशल मीडिया में खेसारीलाल यादव और पवन सिंह की बीच खटपट सुर्खियों में रही, मगर बावजूद इसके फिल्‍म ने बॉक्‍स ऑफिस पर शानदार प्रदर्शन किया। साल 2017 में भोजपुरी सिनेमा में विशेष योगदान के लिए खेसारीलाल यादव को कई सम्‍मान से भी नवाजा गया, जिसमें दादासाहेब फाल्‍के अकादमी अवार्ड और उत्तर प्रदेश के उपमुख्‍यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा द्वारा यूपी रत्‍न सम्‍मान खास है। खेसारीलाल यादव की इन्‍हीं उप‍लब्धियों ने उन्‍हें भोजपुरी सिनेमा में 2017 के साल में सबसे आगे रखा।


(हंगामा मीडिया)

Loading

कुछ त कहीं......

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll Up