Tag: बाति के बतंगड़

कुकुरहट प कुकुरबझाँव : बाति के बतंगड़ – 26

– ओ. पी. सिंह एने फेरू कुछ दिन से कुकुर चरचा में बाड़ें स. एह चलते कुछ लोग कुकुरहट प उतरआइल बा त बाकी लोग ओकनी से कुकुरबझाँव करे में…

इयरवा से लागल बाटे इयरिया : बाति के बतंगड़ – 25

– ओ. पी. सिंह एगो पुरान गीत के मुखड़ा आजु याद आ गइल. इयरवा से लागल बाटे इयरिया घरवा का चोरिया-चोरिया ना. अब चुनाव का माहौल में इयार के इयारी…

धरती के सबले बेईमान प्राणि : बाति के बतंगड़ – 24

– ओ. पी. सिंह भारत में मोदी आ अमेरिका में ट्रम्प. दूनू जने के राशि एके होखे के चाहीं. काहें कि दूनू के जीत के कहानी करीब-करीब एके जइसन बा.…

फाटल कुर्ता आ चरखा के सूत : बाति के बतंगड़ – 23

– ओ. पी. सिंह पिछलका हफ्ता बहुते कुछ देखे सुने के मिलल. ओही में से कुछ बातन के चरचा. खादी विभाग के कलेण्डर प चरखा चलावत मोदी के देख उनुका…

जबरा मारबो करी आ रोवहूं ना दी : बाति के बतंगड़ – 22

– ओ. पी. सिंह आपन देश गजबे ह. एहिजा तरह तरह के अजूबा देखे के मिलि जाला. सबले बरियार नेता के तानाशाह बतावत तरह तरह के विशेषणन से नवाज दीहल…

बाप के नाम साग-पात, बेटा के नाम परोरा : बाति के बतंगड़ – 21

– ओ. पी. सिंह पिछला हफ्ता लिखले रहीं कि नाम में का धइल बा आ एह हफ्ता फेरु नामे के चरचा ले के बइठ गइनी. बाकि करीं त का ?…

कहि देहब ए राजा राति वाली बतिया : बाति के बतंगड़ – 19

– ओ. पी. सिंह महफिल अपना शबाब पर रहुवे. नाच मण्डली के मलकिनी साज वालन का पीछे बइठल नचनियन के जोश बढ़ावत रहली. मसनद के सहारा लिहले बाबू साहब नाच…

कुमरपत – देश के समस्या के सोर : बाति के बतंगड़ – 18

– ओ. पी. सिंह अब बतंगड़ ले के आगा बढ़ीं ओह से पहिले जरुरी लागत बा कि कुछ बतकुच्चन करत चलीं। काहे कि हो सकेला कुछ लोग कुमरपत आ सोर…

घुन का फिकिरे दीयकन के दुबराइल : बाति के बतंगड़ – 17

– ओ. पी. सिंह नोटबन्दी के मार से आम जनता के भइल परेशानियन से कुछ नेता बहुते परेशान बाड़ें. उनकर कहना बा कि जौ का साथे घुनो पिसाता आ सरकार…

बकसऽ ऐ बिलार, मुरुगा बाँड़ हो के रहीहें : बाति के बतंगड़ – 15

– ओ. पी. सिंह मोदी जी नोटबन्दी के एलान का कइलें, जनता के शुभचिन्तक होखे के स्वांग करत नेतवन के लाइन लाग गइल. दीदीया आ बहिना के त बाते छोड़ीं…