जबसे आइल बा मनरेगा, खेतिहर मजदूर मिलल दुश्वार हो ग‎इल

by | Apr 3, 2015 | 2 comments

– नर्वदेश्वर पाण्डेय देहाती

N_Pandey_Dehati

मनबोध मास्टर बहुत परेशान भइलें. खेत में खाड़ पाकल-फूटल फसल खड़ा रहल, कटिया खातिर मजदूर ना मिले.
अरे भया! मजूर कहां से मिली? सब हजूर हो गइलन. दिल्ली-मुंबई जाके खटिहें लेकिन गांव में खटला में शरम लागी. जबसे मनरेगा आइल बा खेतिहर मजदूर मिलल मुश्किल हो गइल. जब घर बइठले प्रधान जी की मेहरबानी से मजूरी मिल जायेके बा त खेते-खेते देहिं के दुर्दशा करावला के कवन जरूरत बा. एगो जमाना रहल जब चइत आवते खेते में भिनसारे से ही चूड़िन की खनक से सिवाना गुलजार हो जात रहल. लोग गावत रहलें- “पाकि गइले गेहुंआ, लटक गइली बलिया , खनक रे गइली ना, गोरी के खेते-खेते चुड़िया खनक रे गइली ना.”

कटिया की बाद महिना भर खलिहान गुलजार रहत रहे. मेंह में बुढ़वा बैल आ बछरु के दहिनवारी नाधि के दवंरी होत रहल. अंखइन से पैर कोड़त में ढोढ़ी गरम हो जात रहे. पुरुवा-पछुआ, उतरही-दखिनहीं की सहारे ओसवनी होत रहल. धरिया के रखल अनाज की ढेर पर बढ़ावन बाबा के पूजा के जमानो लद गइल. गांवन से बैल गायब हो गइलें. बैल ना रहलन त गोबर कहां मिली? गोबर ना त बढ़ावन कइसन? जांगर पेर के अनाज उगावल जात रहल तबो “कट्ठा अवांसी, मंडा बोझ” के ऊपज होत रहल. देश तरक्की कइलसि. तकनिक के खेती आइल. खेती-बारी के काम आसान भइल. एही बीच मनरेगा आइल. गांवन से खेतिहर मजदूर गायब हो गइलन. कटिया की सीजन में खेतन में हसुंआ हड़ताल.

भला होखे कंबाइन आइल. पहिले त लोग एके यमराज कहत रहल, लेकिन अब बुझात बा इ धर्मराज बा. कंबाइन ना रहित त अन्न के दाना घरे ना आइत. देश बहुत तरक्की कइलसि, लेकिन अबहीन जरूरत बा कि जइसे कम दाम के कार आइल ओइसे कम दाम के ट्रैक्टर आ कंबाइनो के जरूरत बा. कहे खातिर सब किसान के समर्थित सरकार बा लेकिन किसान हित के बात सोचे वाला के बा? डीजल पर सब्सिडी ना मिली. सीजन में थ्रेसरिंग खातिर बिजली भले ना मिली, खेते में आग लगावे खातिर जरूर आ जाई. उत्पादन का मामला में देश प्रगति कइलसि त उत्पादकता के कीमतो लगे के चाहीं. उत्पादन त एतना बा की सरकार का गेहूं खरीदला में पूरा तंत्र के शक्ति लगावे के परत बा. गेंहूं के कटाई पर इ कविता –

जबसे आइल बा मनरेगा, खेतिहर मजदूर मिलल दुश्वार.
कटिया दवंरी अउर ओसवनी, किसानी के बंटाढार..
भला भइल कि गांव-गांव में, कंवाइन बा आइल.
घंटा दु घंटा ही लागल, कोठिला में अन्न भराइल..

Loading

2 Comments

  1. deepak

    आज बस कटिया की चिन्ता।चला कम्बाईन लाने

  2. Rajdeep

    Sunadr rachana ba . hamro gehu abhin le naikhe katail kahe hi janaha naikhe milat ab cambaine ke sahara ba

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up