प्रधानमंत्री मंत्रियन के विभाग बदलले

– पाण्डेय हरिराम

प्रधान मंत्री अपना मंत्रिमण्डल के विस्तार करत पिछला दिने कहले कि ई मामूली विस्तार रहे आ बजट सत्र का बाद अउरी विस्तार कइल जाई. प्रधान मंत्री जी के ई कहना बहुते गलत नइखे काहे कि एह विस्तार का बारे में चरचा आ कयास बहुते लगावल गइल रहे. आ ऊ कहल जाला नू कि खोदा पहाड़ आ निकली चुहिया. एह विस्तार में फकत ३७ मंत्रियन के काम काज बदलल गइल आ तीन गो नया मंत्री शामिल कइल गइले. आशा रहे कि बड़का पदन में जरुरे फेर बदल होखी, जइसे कि गृह, वित्त, आ विदेश. सबले बेसी चरचा रहल विदेश मंत्री एस एम कृष्णा के. कहल जात रहे कि हटावल ना गइल त पद जरुरे बदली. काहे कि विदेश मंत्री का रुप में उनुकर कामकाज ठीक ना रहल.बाकिर, प्रधान मंत्री जी अइसनका कुछ ना कइलन, उल्टे प्रधानमंत्री उनुका काम के बहुते संतोषजनक बता दिहले. हालांकि अनुमान बा कि प्रधानमंत्री के साउथ ब्लॉक में अपना बगल वाला कमरा में ढेर सोचे समुझे वाला विदेश मंत्री पसन्द नइखे काहे कि ऊ नीतियन का बारे में पूछताछ करे लागेला आ जवाब दिहल ना बने. दरअसल प्रधानमंत्री हिन्दुस्तान के अमेरिका के आसामी बना दिहल चाहत बाड़न आ होशियार विदेश मंत्री एह चाल के कामयाब ना होखे दी.

अलबत्ता ई खुशी के बात बा कि जवन दू गो मंत्री, एम॰ एस॰ गिल आ जयपाल रेड्डी, के पद से हटा दिहले ओह लोग पर राष्ट्रमण्डल खेल मामिला में अंगुरी उठ चुकल रहे. साँख्यिकी आ कार्यक्रम निष्पादन मंत्री ऊ कइले जवन कवनो किरानीओ कर लिहले रहीत, कागज निकलले आ एगो बड़हन लिस्ट बना दिहले. अब ओकरा के पढ़ी के ? रेड्डी खुशकिस्मत रहले कि ऊ बाच गइले. एगो मंत्री जेकरा के सजा दिहल गइल ऊ रहलन कमलनाथ. उनुका जिम्मे पर्यावरण मंत्रालय रहे. हालांकि अब जवन विभाग उनुका मिलल बा उहो पहिले वाला से कम महत्व वाला नइखे. कमलनाथ अब शहरी विकास मंत्रालय सम्हरीहें. अबकियो बेर जे उनुकर काम खराब निकलल त प्रधानमंत्री अगिला बेर उनुका के बकसिहें ना. दूर संचार विभाग में प्रधानमंत्री के एगो तगड़ा मंत्री के जरुरत रहे एहीसे ई विभाग कपिल सिब्बल के दिहल गइल आ पुरनको विभाग उनुके लगे रहे दिहल गइल. सबले जरुरी रहल शरद पवार के बदलल बाकिर उनुका कुछ ना भइल.

एह विस्तार से एकही बात सामने आइल बा कि हालात नइखे बदले वाला. सबकुछ वइसहीं चली.


पाण्डेय हरिराम जी कोलकाता से प्रकाशित होखे वाला लोकप्रिय हिन्दी अखबार “सन्मार्ग” के संपादक हईं आ ई लेख उहाँ का अपना ब्लॉग पर हिन्दी में लिखले बानी. अँजोरिया के नीति हमेशा से रहल बा कि दोसरा भाषा में लिखल सामग्री के भोजपुरी अनुवाद समय समय पर पाठकन के परोसल जाव आ ओहि नीति का तहत इहो लेख दिहल जा रहल बा.अनुवाद के अशुद्धि खातिर अँजोरिये जिम्मेवार होखी.