"फगुआ के पहरा" पर एक नजर

by | Feb 13, 2013 | 2 comments

– मनोकामना सिंह ‘अजय’

आदरणीय डॉ. रामरक्षा मिश्र विमल जी,
सादर प्रणाम.

अपने के भेजल “फगुआ के पहरा” सावन में भाई गंगा प्रसाद अरुण के मार्फत मिलल. राउर गजल के ई लाइन हमनी पर बिलकुल ठीक बइठत बा –

फागुन कहाँ गइल ना कुछऊ लगल पता
सावन बा हमरा आँख में आके समा गइल.

“फगुआ के पहरा” में राउर लिखल गीत सभ रसगर, मजगर आ दमगर बा. एह में छपल सभ गजल में शहर आ देहात के गमक बा. साँच कहीं त “आँखि लागि गइल” कविता सबसे नीक लागल. राउर “अनुभव” के विस्तार लोगन के एगो नया अनुभव दीही.

आजु बहुते गिरल जा रहल आदमी
हर गिरल जिंदगी के उठावल करीं.

*********
कल तक पियावल जे अँजुरी से अमिरित
ओकरे अँजुरिया जहर से भरल बा.

आज हमनी के जिनिगी के साँच के दरसा रहल बा.

आज के जरूरी के राउर लिखल ई लाइन गौर करे लायक बा –

आईं हमनी सभ बइठीं सुख दुख आपन बतियाईं जा
घरफोरवा बा के हमनी के ओकर पता लगाईं जा
मान बढ़ाईं जा माटी के भेदभाव सभ छोड़ि के.

‘फगुआ’ शब्द त शहर का, गाँवो-जवार से धीरे-धीरे खतम हो जाई. हमनी का जब लड़िका रहीं जा त फगुआ के दू चार दिन पहिलेहीं से धूर-माटी अपना संघी-संघतियन पर उड़ावत मजा लेत रहीं जा. फगुआ के दिन त धूर माटी के के कहो पाँक में लभराइल बोथाइल हमनी का घरे-घरे घुमत रहीं जा. अब ऊ दिन कहाँ देखेके मिली. अब त पानी बचावे के नाँव पर टीका होली खेलल जा रहल बा.

रउरा जब भोजपुरी माध्यम से लिखला पर भौंह, भृकुटी का सङही मिजाज बदले के बात लिखत बानी त ओकरा संगही इहो ख्याल राखे के चाहत रहे कि भोजपुरी में ‘ही’, ‘भी’ के प्रयोग अच्छा ना मानल जाला. एह पुस्तक में अनावश्यक रूप से कुछ हिन्दी आ अँग्रेजी के शब्दन के प्रयोग कइल गइल बा जेकरा से बँचल जा सकत रहे. कुल मिलाके गाँव के माटी से राउर जुड़ाव प्रशंसा करे के योग्य बा.

– मनोकामना सिंह ‘अजय’


कृष्णा भवन,
२७, विवेक नगर, छोटा गोविंदपुर,
जमशेदपुर ८३१०१५

Loading

2 Comments

  1. omprakash amritanshu

    विमल जी के बहुत – बहुत बधाई .

Submit a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

अँजोरिया के भामाशाह

अगर चाहत बानी कि अँजोरिया जीयत रहे आ मजबूती से खड़ा रह सके त कम से कम 11 रुपिया के सहयोग कर के एकरा के वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराईं. यूपीआई पहचान हवे - भा सहयोग भेजला का बाद आपन एगो फोटो आ परिचय
anjoria@outlook.com
पर भेज दीं. सभकर नाम शामिल रही सूची में बाकिर सबले बड़का पाँच गो भामाशाहन के एहिजा पहिला पन्ना पर जगहा दीहल जाई.
अबहीं ले 13 गो भामाशाहन से कुल मिला के सात हजार तीन सौ अठासी रुपिया (7388/-) के सहयोग मिलल बा. सहजोग राशि आ तारीख का क्रम से पाँच गो सर्वश्रेष्ठ भामाशाह -
(1)
अनुपलब्ध
18 जून 2023
गुमनाम भाई जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(3)

24 जून 2023 दयाशंकर तिवारी जी,
सहयोग राशि - एगारह सौ एक रुपिया
(4)
18 जुलाई 2023
फ्रेंड्स कम्प्यूटर, बलिया
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया
(7)
19 नवम्बर 2023
पाती प्रकाशन का ओर से, आकांक्षा द्विवेदी, मुम्बई
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

(11)
24 अप्रैल 2024
सौरभ पाण्डेय जी
सहयोग राशि - एगारह सौ रुपिया

पूरा सूची
एगो निहोरा बा कि जब सहयोग करीं त ओकर सूचना जरुर दे दीं. एही चलते तीन दिन बाद एकरा के जोड़नी ह जब खाता देखला पर पता चलल ह.

संस्तुति

हेल्थ इन्श्योरेंस करे वाला संस्था बहुते बाड़ी सँ बाकिर स्टार हेल्थ एह मामिला में लाजवाब बा, ई हम अपना निजी अनुभव से बतावतानी. अधिका जानकारी ला स्टार हेल्थ से संपर्क करीं.
शेयर ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले जरुरी साधन चार्ट खातिर ट्रेडिंगव्यू
शेयर में डे ट्रेडिंग करे वालन खातिर सबले बढ़िया ब्रोकर आदित्य बिरला मनी
हर शेेयर ट्रेेडर वणिक हैै - WANIK.IN

Categories

चुटपुटिहा

सुतला मे, जगला में, चेत में, अचेत में। बारी, फुलवारी में, चँवर, कुरखेत में। घूमे जाला कतहीं लवटि आवे सँझिया, चोरवा के मन बसे ककड़ी के खेत में। - संगीत सुभाष के ह्वाट्सअप से


अउरी पढ़ीं
Scroll Up