बोले-बतियावे से आगा / पढ़े-पढ़ावे के जरूरत !

January 26, 2018 Editor 0

– अशोक द्विवेदी लोकभाषा भोजपुरी में अभिव्यक्ति के पुरनका रूप, अउर भाषा सब नियर भले वाचिक (कहे-सुने वाला) रहे बाकिर जब ए भाषा में लिखे-पढ़े […]

Advertisements

साँच उघारल जरूरी बा !

September 26, 2017 Editor 1

– डॉ अशोक द्विवेदी हम भोजपुरी धरती क सन्तान, ओकरे धूरि-माटी, हवा-बतास में अँखफोर भइनी। हमार बचपन आ किशोर वय ओकरे सानी-पानी आ सरेहि में […]

रचनात्मक आन्दोलन पर बतकही

June 23, 2017 Editor 0

– डॉ अशोक द्विवेदी सोशल मीडिया का एह जमाना में वाट्स ऐप,फेसबुक पर, नोकरी-पेशा आ स्वरोजगार में लागल, पढ़ल – लिखल लोग अभिव्यक्ति के माध्यम […]

प्रगतिशीलता के नाम पर

February 23, 2017 Editor 1

– डॉ ब्रजभूषण मिश्र भाषा सब अइसन भोजपुरी साहित्य में बेसी कविते लिखल जा रहल बा. दोसर-दोसर विधा में लिखे वाला लोग में शायदे केहू […]

भोजपुरी खातिर एक दिन

February 19, 2017 Editor 0

भोजपुरी भाषा के मान्यता ला आंदोलन चलावत “भोजपुरी जन जागरण अभियान” रउआ सभे से निहोरा आ निवेदन कर रहल बा कि भोजपुरी भाषा के मान […]

पाँचवा धरना प्रदर्शन दिल्ली के जंतर मंतर पर 15 नवम्बर

October 15, 2016 Editor 1

सरकार के उदासीन रवैया के कारण…पाँचवा धरना प्रदर्शन दिल्ली के जंतर मंतर पर 15 नवम्बर, 2016 दिन मंगलवार के। भोजपुरी के संवैधानिक मान्यता आ भोजपुरी […]

No Image

जाल के जाला (बतकुच्चन – 202)

September 13, 2016 Editor 0

जाल, जाला, जाली, जंजाल, संजाल, मायाजाल, इंद्रजाल, मोहजाल, महाजाल; पता ना कतना जाल आ कतना जाला कि सझुरावते परेशान हो जाए आदमी. जाल बुनल जाला, […]

No Image

भोजपुरी, राजस्‍थानी अउर भोटी के जल्दिए मिली संवैधानिक मान्‍यता

July 27, 2016 Editor 0

पिछला सोमार 25 जुलाई, 2016 का दिने दिल्‍ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में भोजपुरी समाज, दिल्‍ली आ राजस्‍थानी भाषा मान्‍यता समिति दुनू मिल के आयोजित […]