Category: पर्व त्योहार

सत्य आ धर्म का पालन के व्रत- ‘बहुरा’

– डॉ. रामरक्षा मिश्र विमल भादो महीना के अन्हरिया के चौथ के बहुरा कहल जाला.कहीं-कहीं एकरा के गाइ माई के पूजा के परब मानल जाला.गाइ आपन दूध पियाके आदिमी के…

भारतीय संस्कृति के संवाहक रक्षाबंधन के अस्तित्व संकट

– डॉ. रामरक्षा मिश्र विमल सावन के पुरनवासी के इंतजार हर घर के होला काहेंकि एह दिन देश भर में राखी के तेवहार मनावल जाला. राखी माने रक्षाबंधन. ई हिंदू…

चलीं, फगुआ गावल जाव

डॉ. रामरक्षा मिश्र विमल फगुआ कहीं, होरी कहीं भा होली कहीं, ई हटे एकही. ई बसंतोत्सव हउवे. बसंत जब चढ़ जाला त उतरेला कहाँ ? एहीसे त होली के रंगोत्सव…

देवी गाथा ‘कहनिया दुर्गा माई के’

देवी गीतन के माहौल में देवी गाथा (भोजपुरी) के MP3 सीडी ‘ कहनिया दुर्गा माई के ’ नाम से बाजार में बहुत कम समय में काफी लोकप्रिय हो गइल बा.…

होली के हिलोरा उठल सात समुन्दर पार

केशव मोहन पाण्ड़ेय पिचकारी के धार, गुलाल के बौछार, अपना लोगन के प्यार, इहे त हउए होली के तेवहार .  जी, भारत के धरती के हीं उपजाऊपन के महिमा देखीं आ…

फाग गीत १

-डॉ. रामरक्षा मिश्र विमल लागेला रस में बोथाइल परनवा ढरकावे घइली पिरितिया के फाग रे. धरती लुटावेली अँजुरी से सोनवा बरिसावे अमिरित गगनवा से चनवा इठलाले पाके जवानी अँजोरिया गावेला…

फगुआ के सांस्कृतिक रंग में सेंधमारी

-डॉ. रामरक्षा मिश्र विमल फगुआ कहीं भा होली, ई बसंतोत्सव हउवे. बसंत जब चढ़ जाला त उतरेला कहाँ ? एहीसे त होली के रंगोत्सव के रूप में मनावल जाला. प्रकृतियो…

महाशिवरात्रि के अवसर पर

शिवभक्ति गीत – रामरक्षा मिश्र विमल सुनींले जे भोला बाबा हईं बड़ा दानी हमरो प किरिपा करीं तब हम जानीं. जानियो के भसमासुर के बरदान दिहलीं अपना बचाव खातिर भागल…

भगवान चित्रगुप्त के पूजा का दिने

– प्रेम कुमार वइसे त भारत में हमेशा कवनो ना कवनो पर्व.त्योहार मनावल जात रहेला बाकिर चित्रगुप्त पूजा शायद एगो अइसन त्योहार ह जवना के एगो खासे जाति के लोग…

धनतेरस के परम्परा आजुओ कायम बा

– सतीश कुमार सिन्हा तेजी से बदलत जमाना का बावजूद आजुओ धनतेरस के परम्परा कायम बा आ समाज के हर वर्ग के लोग महत्व वाला अनेके सामान खरीदे ला एह…

दुर्गा माई के नौ रुप 9.सिद्धिदात्री

(नवरात्र के नउवां दिन, अतवार, १३ अक्टूबर २०१३) सिद्धगन्धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि | सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी | माई दुर्गा अपना नवाँ रूप में ” सिद्धिदात्री ” का नाम से जानल जाली.नवरात्र…