No Image

ई जग ह भ्रष्टाचारी !

May 1, 2011 OmPrakash Singh 0

– जयंती पांडेय बाबा लस्टमानंद लमहर सांस घींच के कहले, हो राम चेला ई कुटिल, कपटी जुग में अबहियों कातना लोग भेंटाता ई कहे वाला […]

No Image

बतकुच्चन – ९

May 1, 2011 OmPrakash Singh 1

मैंने कहा. हमने कहा. तुमने कहा, उसने कहा, राम ने कहा. अरे भाई का कहा आ काहे कहा ? आ आजु आप हिन्दी काहे छाँटे […]